पशुपालनwww.vetextension.com
बरसात के मौसम में पशुपालन के लिए जरूरी सलाह
बरसात के मौसम में पशुपालन के लिए कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी हैं जिनका पशुपालकों द्वारा विशेष ख्याल रखा जाना चाहिए। यदि जरूरी सावधानी नहीं बरती गई तो जानवरों को कई बीमारियां हो सकती हैं और वह मर भी सकते हैं। इसलिए, पशुओं के स्वास्थ्य के लिए निम्न सावधानियां बरतनी चाहिए। • जिन शेडों में पानी टपकता हो उनकी मरम्मत करें। • शेड में खिड़की आदि का उचित प्रबंध करें ताकि वेंटिलेशन अच्छे से हो सके। • पशुओं को पेट के कीड़ों तथा किलनियों से बचाव के लिए दवाई दें। • पशुओं के शेड से मक्खी और मच्छरों को दूर रखें और इनके फैलाव को रोकें। • पशुओं के चारे को सूखी जगहों पर भंडारण करें। • पशुओं के थनों की जांच करें तथा दूध निकालने के बाद उसे किसी एंटीसेप्टिक से धोएं। • जानवरों के शेड को रोज साफ करें तथा फिनाइल का इस्तेमाल कर धोएं। • पशुओं को रोज नहलाएं ताकि उनके शरीर पर गोबर या अन्य अपशिष्ट वस्तु न लगी रहे। • पशुओं को हुए घावों का खास ध्यान रखें तथा एंटीसेप्टिक का प्रयोग करें। • प्रति पशु पर्याप्त स्थान प्रदान करें। • पशुओं को अधिक हरी घास न चरने दें नहीं तो उन्हें दस्त हो सकती है। • बरसात के समय बढ़े हुए चयापचय को पूरा करने के लिए संतुलित राशन दें। • पशुओं के मलमूत्र का सही ढंग से निपटान करें नहीं तो ये भी बीमारी फैला सकते हैं। • बीमार पशुओं को स्वस्थ पशुओं से अलग रखें। • प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए इम्यूनो-स्टीमुलैंट दें। स्रोत : www.vetextension.com
यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
418
0
संबंधित लेख