गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
छाल खाने वाली इल्ली की बागवानी फसलों में एक बड़ी समस्या
• पेड़ की छाल खाने वाली इल्ली अनार, अमरुद, आम, मुनगा, बेर, आम आदि बागवानी फसलों को नुकसान पहुंचाती है। • यह इल्ली तने पर और तने के भीतर छेद करके रहती है। • छाल खाने वाली इल्ली दिन के समय छेद के अंदर छिपी रहती है और रात के समय पौधे के छाल के हरे पदार्थ को खाती है। • इल्ली के जाले और उत्सर्जन (मलमूत्र), तने या शाखा पर स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं। कभी-कभी, हवा के कारण संक्रमित शाखाएं भी टूट जाती है। • आमतौर पर, पुराने पेड़ों में इसका संक्रमण अधिक होता है। • स्वच्छ और साफ बाग बनाए रखें और पेड़ों की नियमित छंटाई करें। • पेड़ के तने और शाखाओं से इल्ली द्वारा बनाई गई जाले को हटाकर नष्ट करें। • इल्ली द्वारा बनाए गए छेद में लोहे की रॉड डालें और इल्ली को मार दें। • छेद में आवश्यकतानुसार घोल (एक लीटर मिट्टी का तेल, 100 ग्राम साबुन पाउडर + 7 लीटर पानी) डालें और गोबर या मिट्टी से छेद को बंद करें। • इस तरह का उपचार साल में दो बार करें। • पेड़ के तने पर जाले हटाने के बाद पेड़ के तने पर साल में दो बार किसी भी कीटनाशक का छिड़काव करें। स्रोत: एगोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस यह जानकारी आपको उपयोगी लगी तो लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ शेयर करना ना भूले!
35
6
संबंधित लेख