कृषि वार्ताराजस्थान पत्रिका
यूरिया के संतुलित उपयोग को बढ़ावा देगी सरकार
नई दिल्ली। उर्वरकों के संतुलित इस्तेमाल और इस उद्योग में कार्यकुशलता को बढ़ावा देने के लिए सरकार एक बड़ा कदम उठाने पर विचार कर रही है। इसमें यूरिया के लिए पोषण आधारित सब्सिडी दर (एनबीएस) तय करने की नीति बनाई जा रही है। पोषण आधारित सब्सिडी कार्यक्रम की शुरुआत सरकार ने 2010 में की थी। इसके तहत यूरिया को छोड़कर सब्सिडी युक्त फास्फेट और पोटाश (पी एंड के) वाले उर्वरकों के प्रत्येक ग्रेड के लिए वार्षिक आधार पर सब्सिडी की राशि तय कर दी जाती है।
जानकारों का कहना है कि सरकार यूरिया के फिजूल इस्तेमाल पर रोक लगाना चाहती है। एनबीएस दर तय होने से यूरिया के संतुलित उपयोग को बढ़ावा मिलेगा। यूरिया एक मात्र नियंत्रित उर्वरक है जिसे सांविधिक रूप से अधिसूचित एक समान दर पर बेचा जाता है। उर्वरकों के गलत प्रयोग को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में बड़ा कदम उठाते हुए इसे नीम कोटेड कर दिया था। एनबीएस से इसके प्रयोग में संतुलन आने की उम्मीद है। स्रोत – राजस्थान पत्रिका, 7 जून 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
68
0
संबंधित लेख