कृषि वार्ताकिसान हेल्पलाइन
राजस्थान सरकार 31 दिसंबर तक कृषि व्यापारियों के लिए ब्याज माफी योजना का विस्तार!
राजस्थान में कृषि व्यापारियों को राहत देने के लिए, मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत ने सोमवार को समितियों के लिए बकाया राशि की वसूली के लिए ब्याज माफी योजना को 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया। गेहलोत सरकार ने COVID-19 महामारी को देखते हुए कृषि विपणन विभाग के प्रस्ताव पर सहमति जताई है। प्रस्ताव के अनुसार, 30 सितंबर तक, मंडी और आवंटन शुल्क और विभिन्न कृषि से अन्य बकाया सहित कुल 68 करोड़ रुपये की बकाया राशि थी। ब्याज माफी योजना के तहत, पूरे मूल शेष के जमा पर 75 प्रतिशत की छूट दी गई थी और इस पर 31 मार्च, 2020 तक ब्याज की 25 प्रतिशत छूट दी गई थी। इससे पहले, COVID-19 के कारण, एमनेस्टी स्कीम की अवधि 30 सितंबर तक बढ़ा दी गई थी जिसे अब 31 दिसंबर तक बढ़ा दिया गया है। योजना की अवधि विभिन्न व्यापार संघों की मांग पर बढ़ा दी गई है। इस फैसले से फल और सब्जियों के कारोबारियों और उड्डयन कारोबारियों को राहत मिलेगी। गेहलोत ने आगामी खरीफ सीजन 2020-21 में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर दालों और तिलहन की खरीद के लिए मंडी और किसानों के कल्याण शुल्क माफ करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी। उन्होंने इस संबंध में एक अधिसूचना जारी करने की स्वीकृति दी है। केंद्र सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार, राज्य में खरीफ सीजन में समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द, मूंगफली और सोयाबीन की खरीद, परिवहन, भंडारण और बिक्री के लिए इन शुल्कों को माफ करने की मंजूरी दी गई है। एक अन्य फैसले में, राजस्थान सरकार ने कोरोनोवायरस के प्रसार की जाँच के लिए लगाए गए लॉकडाउन अवधि के लिए राज्य के आईटीआई संस्थानों में काम करने वाले अतिथि शिक्षकों को पारिश्रमिक देने का फैसला किया है। गेहलोत ने इस संबंध में प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इस निर्णय से, राज्य के आईटीआई संस्थानों में काम करने वाले 1,066 अतिथि शिक्षकों को लॉकडाउन अवधि के लिए पारिश्रमिक मिलेगा। राज्य सरकार लगभग 4.33 करोड़ रुपये का वित्तीय भार वहन करेगी। स्रोत:- किसान हेल्पलाइन, 13 अक्टूबर 2020, प्रिय किसान भाइयों यदि आपको दी गयी जानकारी उपयोगी लगी तो इसे लाइक👍करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ जरूर शेयर करें धन्यवाद।
31
0
संबंधित लेख