एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
मूली का बीज उपचार!
मूली की फसल को बीज एवं मृदा जनित रोगों से बचाने के लिये बीजोपचार आवश्यक है। मूली के बीज को बुआई से पूर्व ट्राइकोडर्मा विरडी 4 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित करें।
यदि आपको आज के सुझाव में दी गई जानकारी उपयोगी लगे, तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
5
0
संबंधित लेख