एग्री डॉक्टर सलाहकिसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग मध्यप्रदेश
धनिया को बुवाई पूर्व पहनाएं सुरक्षा कवच!
किसान भाइयों धनिया एक बहुत ही महत्वपूर्ण फसल है। इसको भूमि एवं बीज जनित रोगों से बचाव के लिये बीज को कार्बेन्डाजिम एवं थाइरम (2:1) 3 ग्राम प्रति किलोग्राम या कार्बोक्जिन 37.5 प्रतिशत + थाइरम 37.5 प्रतिशत 3 ग्राम प्रति किलोग्राम + ट्राइकोडर्मा विरिडी 5 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित करें। बीज जनित रोगों से बचाव के लिये बीज को स्ट्रेप्टोसाइक्लिन 500 पीपीएम से उपचारित करना लाभदायक है।
स्रोत:- किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग मध्यप्रदेश, यदि आपको दी गई जानकारी उपयोगी लगे, तो लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
13
1
संबंधित लेख