एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
धान की फसल में सफेद बाली रोग का नियंत्रण!
धान की फसल में सफेद बाली तना छेदक कीट के कारण देखा जाता है। इस कीट की मादा पीले रंग की होती है, जिनके पंखों पर दो काले धब्बे होते है। यह मादा धान की पत्ती के ऊपरी सिरे पर 50-85 की संख्या के समूह में अंडे देती है जिससे इल्ली निकलकर तने के अंदर छेद करके सुरंग बनाती है, जिसे सफेद बाली (डेड हार्ट) कहा जाता है। इसके नियंत्रण के उपाए अंडों के समूहो की पत्तियों को हाथ से तोड़कर नष्ट करें और फेरोमोन ट्रेप 20 ट्रेप प्रति हेक्टयेर खेत में लगायें। रासायनिक नियंत्रण के लिए एसिटामिप्रिड 00.40% + क्लोरपायरीफॉस 20.00% ईसी @ 1000 मिली प्रति 400 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें।
स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, प्रिय किसान भाइयों यदि आपको दी गयी जानकारी उपयोगी लगी तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
24
10
संबंधित लेख