कृषि वार्ताकिसान समाधान
किसान निःशुल्क मधुमक्खी पालन हेतु प्रशिक्षण लेने के लिए आवेदन करें!
देश में किसानों की आय बढाने के लिए फसल उत्पादन के साथ किसानों को कृषि सम्बंधित अन्य गतिविधियों जैसे – बागवानी, पशुपालन, मत्स्य पालन, मधुमक्खी पालन को बढ़ावा दिया जा रहा है | किसानों को नवाचार के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार द्वारा अनुदान एवं प्रशिक्षण आदि दिया जा रहा है | इस वर्ष मोदी सरकार द्वारा मधुमक्खी पालन को बढ़ावा देने के लिए आत्मनिर्भर भारत के तहत 500 करोड़ रुपये देने का प्रावधान किया गया है | मधुमक्खी पालन से ग्रामीण क्षेत्रों में जहाँ रोजगार का साधन प्राप्त होता है वहीँ परागण के माध्यम से फसलों से होने वालो आय और गुणवत्ता में भी वृधि होती है साथ ही मधुमक्खी पालन से शहद और मोम जैसे उत्पाद भी प्राप्त होते हैं | मधुमक्खी पालन किसानों के लिए अनुकूल व्यवसाय के रूप में सही है | यह किसानों का कृषि में सहायक के साथ–साथ आमदनी का एक जरिया भी है | लेकिन किसानों को सही जानकारी नहीं रहने के कारण इसकी व्यवसाय में अधिक रूचि नहीं लेते हैं | इसको ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश में मधुमक्खी पालन के लिए 3 माह का प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जा रहा है | यह आयोजन मधुमक्खी पालन के साथ ही इस क्षेत्र में रोजगार की भी प्रशिक्षण दिया जायेगा |किसान मधुमक्खी पालन हेतु ले सकेंगे 3 माह का प्रशिक्षण:-उद्दान एवं खाद्य प्रसंस्करण निदेशक श्री एस.बी. शर्मा ने जानकारी दी है कि जनपद केंद्र सहारनपुर, बस्ती एवं अधीक्षक राजकीय उधान प्रयागराज में मधुमक्खी पालन का दीर्घकालीन प्रशिक्षण दिया जा रहा है | यह प्रशिक्षण 16 सितम्बर 2020 से 15 दिसम्बर 20 दिसम्बर 2020 तक आयोजित किया जायेगा | मधुमक्खी पालन के लिए शुरू किए जा रहे  माह के प्रशिक्षण के लिए सामान्य योग्यता की जरूरत है | उत्तर प्रदेश के कोई महिला या पुरुष की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता कक्षा – 08 उत्तीर्ण होना आवश्यक है | निःशुल्क प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए कहाँ करें आवेदन:- मधुमक्खी पालन के लिए इच्छुक अभ्यार्थी को 16 सितम्बर 2020 तक आवेदन करना होगा | इच्छुक अभ्यार्थी संयुक्त निदेशक, औधानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केंद्र सहारनपुर व बस्ती तथा अधीक्षक, राजकीय उधान प्रयागराज से सम्पर्क कर निर्धारित तारीख तक आवेदन करें | आवेदन पत्र के साथ दो संभ्रात व्यक्तियों या राजपत्रित अधिकारी द्वारा प्रदत्त चरित्र प्रमाण पत्र लगाना आवश्यक है | 3 माह का प्रशिक्षण बिल्कुल नि:शुल्क है |इसके लिए किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं रखा गया है लेकिन 3 माह तक अभियार्थी को रहने तथा खाने का खर्च खुद उठाना होगा | अधिक जानकारी के लिए इच्छुक व्यक्ति अपने जिले के कृषि विज्ञानं केंद्र या अपनेजिला उद्यान कार्यालय में  संपर्क करें |
स्रोत- किसान समाधान, प्रिय किसान भाइयों यदि दी गयी जानकारी आपको उपयोगी लगी तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद। 
42
3
संबंधित लेख