सलाहकार लेखआयसीएआर_एनआरसीपी अनार राष्ट्रीय अनुसंधान केंद्र
अनार की फसल में बैक्टीरियल ब्लाइट का नियंत्रण!
किसान भाइयों अनार की फसल में बैक्टीरियल ब्लाइट शुरूआती अवस्था में पेड़ के किसी भी हिस्से पर काले रंग के धब्बे दिखाई देते है। इस बीमारी के कारण फलों पर भूरे काले सुक्ष्म धब्बे दिखायी देते हैं। संक्रमन बढ़ने पर रोग के तेल युक्त धब्बे टहनियों पर भी दिखाते हैं। संक्षिप्त उपाय: 1.फसल अवधी में प्रबंधन लिए 0.5% बोर्डेक्स मिश्रण (और 1% छटाई के बाद) एवं उसके बाद स्ट्रेप्टोसायक्लीन (5 ग्राम/10 लीटर) अथवा 2-ब्रोमो ,2-नायट्रो प्रोपेन -1,3-डायोल (ब्रोनोपॉल ) (5 ग्राम/10 लीटर) + कॉपर ऑक्सीक्लोराइड या कॉपर हैड्रोक्साइड (20-25 ग्राम/10 लीटर) पानी में एकसाथ मिलाकर छिड़काव करें। संक्रमित पत्तियों, फलों या टहनियों को इकट्ठा कर के खेत के बहार निकाल कर जला दें। पौधों के निचली जमीन पर 33% क्लोरीन युक्त ब्लीचिंग पावडर 25 किलो ग्राम/1000 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें। छटाई के औजार 2.5% सोडियम हाइपोक्लोराइड के द्रवण से निर्जंतुक करें। बगीचे में आए खरपतवारों को निकाल कर नष्ट करें। रोग का पेड़ों की टहनियों पर दिखायी दे तो टहनियों को छाँटकर निकाले एवं जलादें। टहनियों की छटाई संक्रमित भाग के 2 से 3 इंच निचे से काट दें। छटाई के बाद पेड़ को 10% बोर्डेक्स मिश्रण की पेस्ट बनाकर लगाए। बारिश के दिनों में तेल युक्त पेस्ट बनाकर (500 ग्राम कॉपर आक्सीक्लोराइड + 1 लीटर अलसी का तेल) लगाये।
स्रोत:- NRCP, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
5
1
संबंधित लेख