सलाहकार लेखउत्तर प्रदेश कृषि विभाग
जानें क्या है एन०पी०वी०वायरस
एन०पी०वी० वायरस पर आधारित जैविक कीटनाशक है,जो चने की सूंडी एवं तम्बाकू की सूंडी के नियंत्रण के लिए प्रयोग में लाया जाता है। चने की सूंडी के बना हुआ जैविक कीटनाशक 2% A.S. एवं तम्बाकू की सूंडी से बना हुआ जैविक कीटनाशक 0-5% A.S. के सूत्रीकरण में उपलब्ध है। चने की सूंडी से बना हुआ एन०पी०वी० चने की सूंडी पर ही काम करता है। कीट की सूंडी के द्वारा वाइरस युक्त पत्ती या फली खाने के 3 दिन बाद सूंडियों का शरीर पीला पड़ने लगता है तथा एक सप्ताह बाद सूंडियॉ पीले से भूरे रंग की हो जाती है तथा शरीर के अन्दर द्रव भर जाता है। रोगग्रस्त सूंडियॉ पौधे की ऊपरी पत्तियों अथवा टहनियों पर उल्टी लटकी हुई पायी जाती है। यदि आप इस सूत्रीकरण का उपयोग करना चाहते हो तो इसे 250 LE प्रति एकड़ की दर से प्रयोग कर सकते हैं।
स्रोत- उत्तर प्रदेश कृषि विभाग प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद! 
7
0
संबंधित लेख