कृषि वार्तानईदुनिया
किसानों के लिए राहत भरी खबर, अब सैटेलाइट डेटा से मिलेगा लोन!
किसानों के लिए जरूरी खबर है। जो किसान बैंकों से लोन लेने के इच्‍छुक हैं, उनके लिए यह सूचना काम आएगी। अब किसानों को लोन देने के लिए सैटेलाइट सिस्‍टम क उपयोग शुरू हो चुका है। इस तकनीक के ज़रिये सबसे पहले किसानों के खेतों की सैटेलाइट इमेज ली जाती है और उसके अनुसार उसका आकलन किया जाता है। इस आधार पर उन्‍हें लोन उपलब्‍ध कराया जाता है। आईसीआईसीआई बैंक ने इसकी शुरुआत कर दी है। इस तकनीक की खासियत यही है कि इसके चलते लोन स्‍वीकृत होने में समय भी कम लगता है और बैंकों को किसानों की माली हालत का भी आकलन करने में आसानी होती है। और बैंकों का भी खर्च कम होता है। बीते कुछ महीनों से ICICI बैंक महाराष्ट्र , मध्य प्रदेश और गुजरात में करीब 500 से अधिक गांवों के लिए इसी सैटेलाइट डेटा का प्रयोग कर रही है। बैंक का कहना है कि इस तकनीक से लोन देने की योजना को अभी 60 हजार से अधिक गांवों तक पहुंचाने का लक्ष्‍य है। जहां तक किसानेां के लाभ की बात है, तो सबसे बड़ा लाभ यही है कि इस तकनीक से किसानों की कर्ज सीमा को बढ़ाने में सहायता मिलेगी। वे किसान जो नए सदस्‍य के रूप में बैंक से जुड़े हैं, वे भी इसका लाभ ले सकेंगे। आईसीआईसीआई बैंक यह प्रयोग करने वाला शायद देश का पहला ही बैंक है। ऐसे काम करेगी यह योजना इस योजना का खास लाभ यही है कि बैंकों के अधिकारियों या कर्मचारियों को किसानों के खेत में खुद जाने की जरूरत नहीं है। अभी तक यह होता था कि किसानों को कर्ज मंजूर करने से पहले बैंक का अमला संबंधित किसान की फसल, उसकी गुणवत्‍ता, सिंचाई के इंतजाम, भूमि की स्थिति आदि का अवलोकन करते खुद खेतों में जाते थे। लेकिन अब यह सुविधा होगी कि बैंक इन खेतों की सैटेलाइट इमेज लेकर थर्ड पार्टी को भेज देगी। वह थर्ड पार्टी अपने स्‍तर पर पूरा वेरीफिकेशन करेगी और इन इमेज के आधार खेत की साइज, फसल की गुणवत्‍ता तय होगी एवं किसान की आमदनी का आकलन हो सकेगा। जल्‍द प्राप्‍त होगा लोन ICICI बैंक कार्यकारी निदेशक अनूप बागची का कहना है कि इस 'सैटेलाइट इमेज का इस्तेमाल करने से बैंक के खर्च में पहले की तुलना में कमी आएगी। इसके अलावा लोन की मंजूरी में लगने वाले समय में भी कमी होगी। इस तकनीक का उपयोग करने से कुछ ही दिनों के भीतर लोन मंजूर हो जाता है। अन्‍यथा सामान्‍य तौर पर लोन मंजूर होने में कम से कम एक महीना तो लग ही जाता है। स्रोत:- नईदुनिया , 26 अगस्त 2020, प्रिय किसान भाइयों यदि आपको दी गयी जानकारी उपयोगी लगी तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ जरूर शेयर करें धन्यवाद।
48
6
संबंधित लेख