कृषि वार्ताजागरण
यूपी के गन्ना किसानों के खाते में पहुंचेंगे 500 करोड़ रुपये!
उत्तर प्रदेश की सहकारी चीनी मिलों के गन्ना किसानों के लिए सुखद खबर है। योगी सरकार ने गन्ना किसानों के बकाया मूल्य भुगतान के लिए 500 करोड़ रुपये की धनराशि अवमुक्त कर दी है। वित्तीय सहायता ऋण के रूप में मिली यह धनराशि सीधे किसानों के खाते में जाएगी। उत्तर प्रदेश के गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा ने बताया कि पेराई सत्र 2019-20 के बकाया गन्ना मूल्य का भुगतान कराने के लिए सरकार संकल्पबद्ध है। कोरोना वायरस के संक्रमण जैसी विषम परिस्थितियों के बावजूद किसानों का बकाया भुगतान कराने और समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर कराने के लिए नियमित समीक्षा की जा रही है। इसी कड़ी में सरकार ने सहकारी क्षेत्र की 24 चीनी मिलों से संबंधित को 500 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता ऋण के तौर पर प्रदान की है, जिससे किसानों के बकाया गन्ना मूल्य का भुगतान किया जा सकेगा। गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा ने बताया कि किसानों को इस धनराशि से उनके बकाए का भुगतान सीधे बैंक खातों में कराया जाएगा। राणा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का आभार जताते हुए कहा कि विषम परिस्थितियों में रिकॉर्ड गन्ना और चीनी उत्पादन कराने वाले किसानों का हित सरकार के लिए सर्वाेपरि है। इस संबंध में अपर मुख्य सचिव, चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार गन्ना किसानों के गन्ना मूल्य भुगतान के लिए संवेदनशील है और सहकारी चीनी मिलों की भुगतान क्षमता को ध्यान में रखते हुए गन्ना मूल्य के त्वरित भुगतान के लिए सहकारी मिलों को 500 करोड़ की वित्तीय सहायता ऋण की रूप में प्रदान की गई है। यह धनराशि 24 सहकारी मिलों को आवंटित कर सीधे गन्ना किसानों के खातों में ट्रांसफर की जाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि आयुक्त एवं अपर मुख्य सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग के स्तर से चीनी मिलों द्वारा किसानों को किये जा रहे गन्ना मूल्य भुगतान की स्थिति की लगातार मानीटरिंग की जा रही है। स्रोत:- जागरण, 22 अगस्त 2020, प्रिय किसान भाइयों यदि आपको दी गयी जानकारी उपयोगी लगी तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
36
8
संबंधित लेख