एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
नर्सरी अवस्था में आर्द्रगलन (डेम्पिंग ऑफ) से बचाएं छोटे पौधों को
किसान भाइयों नर्सरी अवस्था में बैंगन, मिर्च, टमाटर आदि में  आर्द्रगलन रोग की समस्या आमतौर पर सभी जगहों पर देखी जाती है यह एक मृदा जनित कवक रोग है जो बीज और नए अंकुरों को प्रभावित करता है, आमतौर पर मिट्टी की सतह के नीचे और जड़ के ऊतक सड़े हुए दिखाई देते हैं। ज्यादातर मामलों में, संक्रमित पौधे अंकुरित हो जाएंगे और ठीक हो जाएंगे, लेकिन कुछ ही दिनों में वे पानी से लथपथ हो जाते हैं और गल जाते हैं, भूमि की सतह  पर गिर जाते हैं और मर जाते हैं। इसके नियंत्रण के लिए नर्सरी करते समय कार्बेन्डाजिम 50% डब्ल्यू पी  @ 2 ग्राम प्रति किग्रा० की दर से बीज उपचारित करें। यदि खड़ी फसल में इसका प्रकोप हो तो कैप्टान 75% डब्ल्यू पी @ 2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से मिटटी की ड्रेंचिंग करें।
स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, प्रिय किसान भाइयों यदि आपको दी गयी जानकारी उपयोगी लगी तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
14
2
संबंधित लेख