सलाहकार लेखIIPR
मूंग एवं उड़द की फसल में सफेद मक्खी का नियंत्रण!
यह कीट न केवल मूंग की फसल का प्रमुख कीट है अपितु यह पीत शिरा मोसैक वायरस रोग का भी संवाहक है। यह पौधों की कोशिकाओं का रस चूसकर भोजन प्राप्त करता है। जिसके कारण पौधे की वृद्वि पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। पौधों की पत्तियाँ नीचे की तरफ मुड जाती है। सफेद मक्खी पौधो की पत्तियों पर काली फफूँदी की परत विकसित करती है, जिसके कारण प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। प्रबंधन खेत एवं आस पास की मेडों पानी की नालियों इत्यादि में खरपतवारों का उचित प्रबंधन करना चाहिए क्योंकि खरपतवार इस कीट के विकल्पी पोषक होते हैं। इस कीट के नियंत्रण हेतु मूंग की कीट अवरोधी प्रजातियाँ उगानी चाहिए। मूंग की पन्त मूंग 4, पी.डी.एम.139, नरेन्द्र मूंग 1, एम.एल. 818, आई.पी.एम.2-3, मेहा, आई.पी.एम.2-14 आदि प्रजातियाँ उगायें। डाइमोथोएट 30 ई.सी. का (1.7 मिली/लीटर पानी में) घोल बनाकर फसल पर छिड़काव करने से इस कीट के प्रकोप को कम किया जा सकता है।
स्रोत:- IIPR, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
12
1
संबंधित लेख