योजना और सब्सिडीलाइव हिंदुस्तान कॉम
खाद्य प्रसंस्करण उद्योग लगाने पर मिलेगा एक लाख अनुदान!
खाद्य प्रसंस्करण उद्योग लगाने पर राजकीय फल संरक्षण केन्द्र द्वारा 50 हजार से एक लाख तक अनुदान देगा। उद्योग लगाने वाला सफल हो इसके लिए उसे एक महीने का मुफ्त प्रशिक्षण भी दिया जायेगा। बेरोजगार युवक, युवतियों को स्वरोजगार करने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा महात्मा गांधी खाद्य प्रसंस्करण ग्राम स्वरोजगार योजना चलाया जा रहा है। इसमें राजकीय फल संरक्षण केन्द्र पहले चयनित ग्राम पंचायतों के 30 इसमें चयनित युवक-युवतियों को केन्द्र पर एक महीने का प्रशिक्षण दिया जाता है। इसमें फल, सब्जियों का जूस, जैम, अचार, सांस, चटनी, खाद्य प्रसंस्करण में आटा, मैदा, चावल, सिंवाई, बेसन दूध प्रसंस्करण में पनीर, दही, मक्खन, दूध, सूखा पाउडर, तेल, भूसी, मसाले आदि उत्पाद बनाने का प्रशिक्षण दिया जाता है। इस दौरान फलों, सब्जियों आदि का चयन करने से लेकर उसके निर्माण, पैकिंग तकनीक की विशेषज्ञों द्वारा जानकारी दी जाती है। प्रशिक्षण के बाद उक्त उत्पादों को बनाने का प्रसंस्करण उद्योग लगाने वाले का फल संरक्षण केन्द्र प्रोजेक्ट बनवाने से लेकर अनुदान दिलाने में सहयोग करेगा। इसमें लागत का 50 फीसदी या अधिकतम एक लाख रुपया अनुदान दिया जायेगा। दो लाख से अधिक का प्रोजेक्ट होने पर भी एक लाख का ही अनुदान मिलेगा।
स्रोत:- लाइव हिंदुस्तान.कॉम, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
157
2
संबंधित लेख