एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
सोयाबीन की फसल में चारकोल रोट का प्रबंधन!
यह एक फफूंदजनित रोग है। इस बीमारी से पौधे की जड़े सड़ कर सूख जाती है। पौधे के तने का जमीन से ऊपरी हिस्सा लाल भूरे रंग का हो जाता है। पत्तीयां पीली पड़ कर पौधे मुरझा जाते हैं। रोग ग्रषित तने व जड़ के हिस्सों के बाहरी आवरण में असंख्य छोटे-छोटे काले रंग के स्केलेरोशिया दिखाई देते हैं। इसकी रोकथाम लिए रोग सहनशील किस्में जैसे जे.एस. 20-34 एवं जे.एस 20-29,, जे एस 97-52, एन.आर.सी. 86 का उपयोग करें। या कार्बोक्सिन 37.5% + थीरम 37.5% डब्ल्यूएस 3 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से बीज उपचार कर बुवाई करें।
स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
2
1
संबंधित लेख