सलाहकार लेखकिसान कल्याण तथा कृषि विभाग मध्यप्रदेश
केले की खेती में अनुशंसित खाद प्रबंधन!
केला की फसल में अनुशंसित खाद एवं उर्वरक 200 ग्राम नत्रजन + 60 ग्राम फास्फोरस + 300 ग्राम पोटाश प्रति पौधा। उर्वरक देने हेतु निम्न विकल्पों का उपयोग किया जा सकता है। _x000D_ विकल्प:-अ 434 ग्राम युरिया, 375 ग्राम सुपर (एसएसपी) एवं 500 ग्राम म्यूरेट ऑफ़ पोटाश (एमओपी)।_x000D_ विकल्प :- ब 190 ग्राम एनपीके (12:32:16), 390 ग्राम युरिया एवं 430 ग्राम म्यूरेट ऑफ़ पोटाश (एमओपी)।_x000D_ विकल्प:- स 231 ग्राम एनपीके (10:26:26), 380 ग्राम युरिया एवं 370 ग्राम म्यूरेट ऑफ़ पोटाश (एमओपी)।_x000D_ विकल्प:-द 130 ग्राम डीएपी, 380 ग्राम युरिया एवं 500 ग्राम म्यूरेट ऑफ़ पोटाश (एमओपी)।_x000D_ उर्वरक देने की विधि - खेत के तैयारी के समय गोबर/कम्पोस्ट की मात्रा - 25 टन प्रति हेक्टर एवं पौध लगाते समय 15 कि.ग्रा. गोबर की खाद प्रति पौधा, कार्बोक्यूरान 25 ग्राम एवं स्फुर व पोटाश की आधारिय मात्रा देकर ही रोपाई करे। उर्वरक हमेशा पौधे से 30 सेंटीमीटर की दूरी पर रिंग बनाकर नमी की उपस्थिति में व्यवहार कर मिट्टी में मिला दें।_x000D_ पौध लगाते समय सुपर फास्फेट 125 ग्राम + म्यूरेट आफ पोटाश 100 ग्राम। _x000D_ 30 दिन के पश्चात युरिया 60 ग्राम। _x000D_ 75 दिन के पश्चात युरिया 60 ग्राम + सुपर फास्फेट 125 ग्राम + सुक्ष्म पोषक तत्व 25 ग्राम। _x000D_ 125 दिन के पश्चात युरिया 60 ग्राम + सुपर फास्फेट 125 ग्राम। _x000D_ 165 दिन के पश्चात युरिया 60 ग्राम + पोटाश 100 ग्राम। _x000D_ 210 दिन के पश्चात युरिया 60 ग्राम + पोटाश 100 ग्राम। _x000D_ 255 दिन के पश्चात युरिया 60 ग्राम + पोटाश 100 ग्राम। _x000D_ 300 दिन के पश्चात युरिया 60 ग्राम + पोटाश 100 ग्राम प्रति पौधा के हिसाब से दिया जाना चाहिए। _x000D_
स्रोत:- किसान कल्याण तथा कृषि विभाग मध्यप्रदेश प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी यदि आपको उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
10
0