आज का सुझावएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
अरहर में उर्वरक का उपयोग नियोजन
अरहर की अच्छी उपज के लिए उर्वरको का उपयोग मृदा परीक्षण के आधार पर करना चाहिए। सामन्यतया बुवाई के समय 50 किलोग्राम डीएपी, एवं 15 किलोग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश प्रति एकड़ कतारों में बीज के नीचे दिया जाना चाहिये। तीन वर्ष में एक बार 10 कि.ग्रा. जिंक सल्फेट प्रति एकड़ आखिरी जुताई के समय भुरकाव करने से पैदावार में अच्छी बढ़ोतरी होती है।
यदि आपको आज के सुझाव में दी गई जानकारी उपयोगी लगे, तो इसे लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
2
0
संबंधित लेख