सलाहकार लेखकृषि जागरण
गेहूं भंडारण का सबसे बड़ा दुश्मन है खपरा बीटल!
किसानों के लिए फसल की कटाई के बाद उनका सुरक्षित भंडारण करना बहुत ज़रूरी है। अगर फसलों का उचित ढंग से भंडारण न किया जाए, तो किसानों को बहुत नुकसान उठाना पड़ सकता है। कृषि वैज्ञानिक के मुताबिक... किसानों को गेहूं भंडारण करते समय सबसे ज्यादा सावधानी बरतनी चाहिए, क्योंकि फसल के खराब होने का खतरा जितना खुले खेत में होता है, उतना ही फसल का भंडारण करते समय भी होता है। अगर किसानों ने गेहूं भंडारण में थोड़ी भी लापरवाही की, तो उनकी पूरी मेहनत बर्बाद हो सकती है। कृषि वैज्ञानिक की सलाह है कि गेहूं का भंडारण करते समय कई तरह के कीट, फंगस और सीलन लगने का खतरा होता है, इसलिए किसानों को इस पर खास ध्यान देना चाहिए। गेहूं भंडारण का सबसे बड़ा दुश्मन खपरा बीटल कृषि वैज्ञानिक का कहना है कि गेहूं में सबसे ज्यादा खपरा बीटल यानी घुन लगने का खतरा रहता है। यह फसल को बहुत नुकसान पहुंचाता है। अगर फसल में घुन लग जाए, तो अनाज से पाउडर निकलना शुरू हो जाता है, जोकि गेहूं को खोखला बना देता है। ऐसे में अनाज भंडारण से पहले कुछ खास उपचार कर लेना चाहिए। खपरा बीटल से गेहूं का बचाव सबसे पहले गेहूं को धूप में अच्छी तरह से सुखा लें। ध्यान रहे कि गेहूं में 10 प्रतिशत से ज्यादा नमी न रहे। जिस स्थान पर गेहूं का भंडारण करना है, उस स्थान को भी उपचारित करना ज़रूरी होता। इसके लिए मैलाथियान के एक भाग को लगभग 100 भाग पानी में मिला लें। इसका अच्छी तरह छिड़काव कर दें। गेहूं भंडारण वाला स्थान पक्का बना होना चाहिए। गोदाम में दरारें या छेद हैं, तो उन्हें सीमेंट से बंद कर देना चाहिए। गोदाम को सबसे पहले अच्छी तरह साफ कर लें। इसको सल्फास या फासराक्सीन के धुआं से उपचारित कर सकते हैं। अनाज की बोरियों को सीधे जमीन पर नहीं रखना चाहिए। अनाज रखने का प्लेटफॉर्म जमीन से कम से कम 10 से 12 इंच ऊपर होना चाहिए। गोदाम में अनाज भरने के बाद दरवाजे और खिड़कियां बंद कर देना चाहिए।
स्रोत:- कृषि जागरण_x000D_ यदि आपको दी गई जानकारी उपयोगी लगे, तो इसे लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ साझा करें।
16
0
संबंधित लेख