कृषि वार्ताकृषि जागरण
एफपीओ बनाने के लिए मोदी सरकार दे रही है 15 लाख रुपये, जानिए कैसे मिलेगा लाभ!
भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत के लिए एक विशेष आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था। एफपीओ बनाने की शुरुआत केंद्र सरकार ने 10 हजार एफपीओ बनाने की शुरुआत कर दी है। यानी अभी तक जो किसान सिर्फ उत्पादक हुआ करते थे, वे सभी अब कृषि संबंधी अपना कोई भी बिज़नेस शुरू कर सकते हैं। इसमें एफपीओ उनकी पूरी तरह से मदद करेगा। केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी के मुताबिक इस योजना से करीब 30 लाख किसानों को सीधा लाभ मिलेगा। एफपीओ द्वारा किसान अपनी उपज को उचित दाम पर बेच पाएंगे। देशभर के करीब 100 जिलों के हर ब्लॉक में कम से कम 1 एफपीओ ज़रूर बनाया जाएगा। एफपीओ को सरकार द्वारा क्रेडिट गारंटी पर करीब 2 करोड़ रुपए तक का लोन भी मिल पाएगा। इसके साथ ही संगठन को 15 लाख रुपए तक की इक्विटी ग्रांट भी दी जाएगी। इस योजना के जरिए साल 2024 तक करीब 10 हजार एफपीओ हो जाएंगे। इसके लिए सरकार की तरफ से 6865 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं। ऐसे बनेगा एफपीओ किसान उत्पादक संगठन बनाने के लिए सबसे पहले किसानों का एक ग्रुप बनाना होगा। इस ग्रुप में कम से कम 11 सदस्य ज़रूर होने चाहिए। इसके बाद कंपनी एक्ट के तहत रजिस्ट्रेशन करना होगा। ऐसे मिलेगा 15 लाख रुपए का लाभ एफपीओ बनने के बाद 3 साल तक कंपनी का काम देखा जाएगा। इसके बाद नाबार्ड कंसल्टेंसी सर्विसेज रेटिंग देगी। अगर इस रेटिंग में एफपीओ पास होता है, तो मोदी सरकार द्वारा 15 लाख रुपए का लाभ मिल पाएगा। मैदानी क्षेत्र के लिए 1 एफपीओ से कम से कम 300 किसान का जुड़ा होना अनिवार्य है। इसके साथ ही पहाड़ी में 100 किसान जुड़े होने चाहिए। यहां मिलेगी मदद अगर किसान एफपीओ बनाना चाहते हैं, तो आप राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक लघु कृषक कृषि व्यापार संघ एवं राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम के कार्यालय में जाकर संपर्क कर सकते हैं। स्रोत:- कृषि जागरण, 19 May 2020 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे तो, इसे लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ साझा करें।
99
0
संबंधित लेख