आज का सुझावAgroStar एग्री-डॉक्टर
मृदा परीक्षण अवश्य कराएं
मई माह में खेत खाली हो जाते हैं, खेत खाली होने पर खेत से मिट्टी के नमूने ले लें। तीन वर्ष में एक बार अपने खेतों की मिट्टी का परीक्षण अवश्य कराएं ताकि मिट्टी में उपलब्ध पोषक तत्वों (नत्रजन, फास्फोरस, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नेशियम, सल्फर, जिंक, लोहा, तांबा, मैंगनीज व अन्य तत्व) की मात्रा का पता चल सके। फसलों में मृदा परीक्षण के आधार पर खाद एवं उर्वरकों का उपयोग करें।
यहां दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगे तो लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
41
0
संबंधित लेख