AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
09 Feb 20, 06:30 PM
पशुपालनपशु चिकित्सक
पशुओं के पहचान के विभिन्न तरीके
हम इस लेख में पशुओं की पहचान करने के सामान्य तरीकों के साथ-साथ इसकी उपयोगिता के बारे में भी समझ हासिल करेंगे। 1. गोदना (टैटूइंग) • टैटूइंग आमतौर पर कान की भीतरी सतह पर किया जाता है। • इस पद्धति से नवजात पैदा हुए बछड़ों की पहचान की जा सकती है। • यह विधि पशु अनुसंधान केंद्र में नवजात बच्चे के जन्म के तुरंत बाद अपनाई जाती है। 2. ईयर टैगिंग • यह हमारे देश में सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली पद्धति में से एक है। • प्लास्टिक या धातु की पट्टी/टैग को आसानी से लगाया जा सकता है। • यह विधि विशेष रूप से भेड़ और बकरियों के लिए उपयोगी है, लेकिन गायों और भैंसों पर भी अपनाया जाता है। • बच्चे के जन्म के बाद 4-6 महीनों के बाद इस पद्धति का पालन किया जाता है। 3. रंग लगाना • इस पद्धति में पशु के शरीर के विभिन्न हिस्सों पर रंग लगाया जाता है। • इस पद्धति का सबसे अधिक उपयोग छोटे जानवरों जैसे भेड़, बकरियों और गधों में किया जाता है। 4. ब्रांडिंग इसके लिए, खास धातु के नंबर लकड़ी के हैंडल वाले लोहे के छड़ लगाए जाते हैं। • ऐसी नंबर को गर्म किया जाता है और जानवर के कंधों पर जलाया जाता है। • इससे नंबर जितना हिस्सा जल जाता है और जानवर के शरीर पर जीवनपर्यंत दिखाई देता है। आर्टिकल स्रोत: एग्रोस्टार पशु विशेषज्ञ वीडियो स्रोत : इरा गोट फार्म यदि यह जानकारी आपको उपयोगी लगे, तो लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
30
0