AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
15 Jan 20, 01:00 PM
कृषि वार्तापुढारी
एनएमके - 1 गोल्डन को पेटेंट मिला
पुणे - कृषि और किसान मंत्रालय के फसल संरक्षण और किसान अधिकार अधिनियम 2001 के अंतर्गत सीताफला के ‘एनएमके-1 गोल्डन’ को एक पेटेंट जारी किया गया है। इसके अलावा, इस किस्म को आधिकारिक तौर पर भारत सरकार के साथ पंजीकृत किया गया है, यह जानकारी बार्शी तालुका के डा. नवनाथ मल्हारी कसपटे ने दिया। सीताफल के लिए पेटेंट प्राप्त करने वाले कसपटे देश के पहले किसान हैं। कासपटे ने कहा कि स्वर्ण जाति के सीताफल के कारण किसानों की आय में वृद्धि हुई है। मीठे और जल्द खराब न होने के कारण इसकी बाजार में मांग अधिक है। बार्शी में सीताफला की 35 एकड़ में 42 से अधिक किस्मों की खेती की गई है। 15 एकड़ में सीताफल की विभिन्न किस्मों की नर्सरी को विकसित किया गया है। गोल्डन सीताफल की
किस्मों को विकसित करने की प्रक्रिया की शुरुआत 2001 में की गई थी। इन किस्मों को विकसित करने में 10 साल की कड़ी मेहनत और वैज्ञानिक अध्ययन का समय लगा। आखिर 2010 में सीताफल की गोल्डन किस्म को विकसित करने में सफलता हासिल हुई। यह अन्य सभी किस्मों की तुलना में अधिक गुणकारी है, जो स्वाद, रंग, अधिक टिकाऊ और कम बीजों वाले होते हैं। स्रोत – पुढारी, 13 जनवरी 2020 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
104
3