कृषि वार्तादैनिक भास्कर
कृषि विभाग ने धान बुआई के लिए दिए निर्देश
पटना। बिहार में धान की रोपनी बढ़ाने के लिए कृषि विभाग ने किसानों को धान की सीधी बुआई की सलाह दी है। बिहार के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि बदलते जलवायु परिवेश में वर्षा की अनिश्चितता बनी रहती है। धान उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने के लिए जीरो टिलेज या सीड ड्रील मशीन से धान की सीधी बुआई के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। इस स्थिति में धान की सीधी बुआई किसानों के लिए काफी लाभकारी है। इस विधि में सीधे धान के बीजों को अच्छी नमी पर बोया जाता है। मंत्री ने कहा कि रोपनी धान की तुलना में धान की सीधी बुआई में कम जल की आवश्यकता होती है। इसमें कम श्रम की जरूरत होती है। पानी, मजदूरी एवं ईंधन की बचत के कारण धान की सीधी बुआई करने पर किसानों को लागत कम एवं उपज ज्यादा मिलती है। धान की सीधी बुआई के लिए किसानों को प्रति एकड़ 3600 रुपए अनुदान दिया जा रहा है। स्रोत – दैनिक भास्कर, 14 जुलाई 2019
खास बात यह है कि बुदेलखंड में अभी तक हल्दी की खेती को लेकर किसी भी तरह का कोई प्रयोग नहीं हुआ है। किसान देवेंद्र कुसमारिया ने बुंदेलखंड में पहली बार हल्दी की खेती की है। तीन साल पहले देवेंद्र महाराष्ट्र जलगांव के राबेर घूमने गए थे जहां पर उन्होंने हाईटैक हल्दी की खेती को देखा और कुछ मात्रा में वहां से हल्दी के बीज लेकर आए। वापस आकर उन्होंने बीज को अपने खेत में लगाया तो उनको हल्दी के बेहतर परिणाम मिले। स्रोत – कृषि जागरण, 3 जुलाई 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
4
0
संबंधित लेख