कृषि वार्ताकृषि जागरण
वाराणसी की बुलेट मिर्च खाड़ी देशों में बढ़ाएगी खाने का स्वाद
वाराणसी की बुलेट मिर्ची खाड़ी देशों में खाने का स्वाद बढ़ाएगी। वाराणसी के वैज्ञानिकों ने खाड़ी देशों के लोगों की पसंद के अनुरूप तीखी लाल मिर्च को विकसित किया है। भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने इस हरी मिर्च की नई प्रजाति को विकसित किया है। इस मिर्च को वैज्ञानिको ने ‘काशी आभा’ नाम दिया है। लेकिन आकार में यह एकदम पिस्टल की गोली की तरह ही दिखाई देती है। मिर्च की खास बात है कि इसमें कई तरह के रोगों से लड़ने की क्षमता तो होती ही है साथ ही यह भंडारण, और प्रसंस्करण के लिहाज से बेहतर है। बुलेट मिर्च हरे और लाल रंग की इस मिर्च की लंबाई 5 से 6 सेंटीमीटर और मोटाई 1.8 सेंटीमीटर तक होती है। इसमें गुरचा, सड़न और पीली चीटियां लगने की कोई भी समस्या नहीं होती है। यह एक सामान्य तापमान में सुरक्षित रह सकती है। स्रोत – कृषि जागरण, 8 जुलाई 2019
यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
6
0
संबंधित लेख