पशुपालनएग्रोवन
पशुओं के लिए मुक्त और स्वस्थ पशुशाला
• गाय, भैंस को पशुशाला में स्वतंत्र घूमने देना चाहिए जिससे वे तनाव में नहीं रहते हैं। साथ ही स्वतंत्र होने से वह अपनी आवश्यकता और इच्छानुसार चारा खाते हैं और अपनी प्राकृतिक इच्छानुसार रहते हैं। • इससे जानवरों का व्यायाम होता है। उनकी हालत स्वस्थ रहती है और भूख बढ़ती है। मोटापा कम करता है और प्रजनन क्षमता बढ़ती है। • गाय, भैंस अधिक चारा खाते हैं और देर तक जुगाली (पगुरी) करते हैं। जिससे उनका पाचन तंत्र सही रहता है। • खुले पशुशाला से श्रम और चारा प्रबंधन की लागत में कमी आती है और, इसके साफ-सफाई करने के लिए कम समय की आवश्यकता होती है।
• खुले गौशाला में सुविधा के अनुसार बदलाव कर सकते हैं। यह सभी प्रकार के जानवरों के लिए, सभी मौसमों में एक छोटे से बदलाव के साथ उपयोगी है। इसका विस्तार करना भी आसान होता है। • खुली पशुशाला में क्षमता से 10 से 15 प्रतिशत अधिक जानवर एक समय में साथ रह सकते हैं। • इसके निर्माण कार्य में कम लागत आती है और नुकसान का जोखिम कम होता है। • यहां रहने वाले पशुओं के शरीर से वाष्पीकरण अधिक होता है। इसलिए पशु ज्यादा पानी पीते हैं। स्रोत - एग्रोवन
118
61
संबंधित लेख