गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
बुवाई से पहले और बुवाई के समय क्या क्या कार्य करना चाहिए ताकि गुलाबी इल्ली के प्रकोप को कम किया जा सके!
जिन क्षेत्रों में जहां पिछले साल गुलाबी इल्ली का प्रकोप गंभीर रूप से हुआ था, इस साल भी उसी कीट के प्रकोप की संभावना है। इस समस्या से निपटने के लिए कपास की बुवाई से पहले और उसी खेत में बुवाई के समय कुछ कृषि पद्धतियों की आवश्यकता होती है। इसके लिए हमे थोड़ी एडवांस प्लानिंग करनी होगी। • फसल के अवशेषों को नष्ट करें या जैविक खाद के लिए उनका उपयोग करें। • यदि कपास के डंठल अभी भी खेत में या मेंड़ों पर हैं, तो उन्हें नष्ट करें। • श्रेडर की मदद से कपास के टुकड़ों के छोटे टुकड़े करें और जैविक खाद तैयार करें। • किसी अन्य उद्देश्य के लिए कपास की छड़ें का उपयोग न करें जैसे कि किसी भी बेलवर्गीय पौधों को सहारा देना। • अपने खेतों में फेरोमोन ट्रैप स्थापित करें। • यदि आपका कपास का खेत जिनिंग-कारखाने के पास है, तो अभी अपने क्षेत्र में कम से कम 5 गुलाबी इल्ली फेरोमोन ट्रैप स्थापित करें। • प्लास्टिक के जाल के साथ ईंधन उद्देश्य के लिए संग्रहीत कपास की छड़ें के ढेर को कवर करें। • ईंधन के उद्देश्य के लिए कपास की छड़ें कपास क्षेत्र के पास नहीं होनी चाहिए। • जल्दी परिपक्वता कपास की किस्मों का चयन करें। • शुरुआती बुवाई में संक्रमण बहुत अधिक होता है, समय पर बुवाई का पालन करें। • बीटी पैकेट में रिफ्यूजिया के रूप में गैर-बीटी बीज बोएं। • संतुलन उर्वरक और सिंचाई का उपयोग करें। • कपास में फसल के चक्र और उचित फसल अंतराल का पालन करें। • एग्रोस्टार गोल्ड ट्रीटमेंट को अपनाएं और उनके निर्देशों का पालन करें। स्रोत: एगोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस यह जानकारी आपको उपयोगी लगी तो लाइक करें और अपने किसान मित्रों के साथ शेयर करना ना भूले!
112
30
संबंधित लेख