कृषि वार्ताकृषि जागरण
7 करोड़ किसानों को मिल सकता है लाभ, केसीसी की लिमिट दोगुनी!
लॉकडाउन में किसानों को हो रही परेशानियों को देखते हुए कई तरह कि मांग उठने लगी हैं। किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष पुष्पेंद्र सिंह ने किसान क्रेडिट कार्ड की लिमिट दोगुनी करने के साथ ही उसके ब्याजदर को भी कम करने की मांग की है। उन्होंने सरकार से मांग कि है कि केसीसी कि लिमिट 6 लाख रुपये करने के साथ ही ब्याज दर कम करके 1 फीसदी की जाए। मौजूदा समय में इसकी लिमिट 3 लाख रुपये है और पैसा चुकाने पर देने वाला ब्याज दर 4 फीसदी है। किसान नेता का मानना है कि कोरोना महामारी वाले दौर में ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मज़बूती मिलेगी। _x000D_ केसीसी में बदलाव के अतिरिक्त उन्होंने किसानों के सभी प्रकार के कर्ज, किश्तों की अदायगी पूरे एक साल के लिए सस्पेंड करने की भी मांग की है। वहीं सरकार की तरफ से राहत के तौर पर केसीसी पर बैंकों से लिए गए सभी अल्पकालिक फसली कर्जों के भुगतान की तारीख दो माह बढ़ा कर 31 मार्च से 31 मई तक की गई है। जिसके बाद किसान 31 मई तक अपने फसल ऋण को बिना किसी बढ़े ब्याज के केवल 4 प्रतिशत प्रति वर्ष के पुराने रेट पर ही भुगतान कर सकते हैं। वहीं किसान शक्ति संघ इसे पूरे साल भर के लिए सस्पेंड करने की मांग कर रहा है।_x000D_ केंद्र सरकार द्वारा दी गयी है छूट_x000D_ किसानों द्वारा कृषि से जुड़ी कार्यों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड पर लिए गए तीन लाख रुपये तक के लोन की ब्याजदर 9 फीसदी है, लेकिन सरकार के द्वारा इसमें 2 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाती है जिसके बाद इसका ब्याजदर 7 फीसदी पड़ता है। इसके साथ ही समय पर राशि चुकाने पर इसमें 3 फीसदी की और छूट मिल जाती है जिसके बाद यह केवल 4 फीसदी बचता है। जिसको अब एक प्रतिशत करने की मांग की जा रही है। किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम और पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम केंद्र सरकार की दो बड़ी योजनाएं हैं जिन्हें अब जोड़ दिया गया है।_x000D_ स्रोत:- कृषि जागरण, 29 अप्रैल 2020_x000D_ कृषि वार्ता में दी गई जानकारी उपयोगी लगे तो लाइक करें, और अपने अन्य किसान मित्रों को शेयर करें।_x000D_ _x000D_
617
0
संबंधित लेख