सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
प्याज व लहसुन में सफेद गलन (व्हाईट रॉट) रोग का नियंत्रण!
सफेद गलन (व्हाईट रॉट):- किसान भाइयों प्याज व लहसुन में सफेद गलन रोग स्लेरोशियम सेपीवोरम या स्केलेरोशियम रोल्फसाई नामक फफूंद द्वारा होता है। इस रोग के लक्षण जमीन के समीप प्याज का ऊपरी भाग गल जाता है तथा संक्रमित भाग पर सफेद फफूंद और जमीन के ऊपर हल्के भूरे रंग के सरसों के दाने की तरह सख्त संरचनायें बन जाती है, जिन्हे स्केलेरोशिया कहते हैं। संक्रमित पौधें मुरझा जाते हैं तथा बाद में सूख जाते हैं। जिसमें कन्द चारों तरफ से सफेद फफूंद से ढक जाते है एवं कन्द सड़ जाते हैं। इस रोग के प्रकोप से पौधों से बीज के लिए एक भी अम्बेल नहीं मिलते व लहसुन के कंद छोटे रह जाते हैं, जिन्हे बीज के लिए उपयोग में नहीं लाते हैं। अंत में प्रभावित पौध पूर्ण रूप से सूख जाते हैं। इस रोग के प्रबंधन के उपाय:- 1. मई से जून में खेत की हल्की सिंचाई करने के बाद जुताई करना चाहिए, जिससे फफूंद के स्केलेरोशिया अंकुरित होकर नष्ट हो जाते है। 2. खेत में फफूंदी नाशक दवाइयों का प्रयोग करें। 3. जल्द ही एग्रोस्टार एग्री डॉक्टर से संपर्क करें।
स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर एक्सीलेंस, प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक👍🏻करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
24
5
संबंधित लेख