सलाहकार लेखकिसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग मध्यप्रदेश
जीरो टिलेज से कम समय में बुवाई कर अधिक उपज पाएं!
धान की पछेती फसल की कटाई के उपरांत खेत में समय पर फसलों की बुवाई के लिय समय नहीं बचता और खेत ,खाली छोड़ने के अलावा किसान के पास विकल्प नहीं बचता ऐसी दशा में एक विशेष प्रकार से बनायी गयी बीज एवं खाद ड्रिल मशीन से फसलों की बुवाई की जा सकती है। जिसमें खेत में जुताई की आवश्यकता नहीं पड़ती धान की कटाई के उपरांत बिना जुताई किए मशीन द्वारा फसलों की सीधी बुवाई करने की विधि को जीरो टिलेज कहा जाता है। इस विधि को अपनाकर गेहूँ की बुवाई देर से होने पर होने वाले नुकसान से बचा जा सकता है एवं खेत को तैयारी पर होने वाले खर्च को भी कम किया जा सकता है। इस तकनीक को चिकनी मिट्टी के अलावा सभी प्रकार की भूमियों में किया जा सकता है। जीरो टिलेज मशीन साधारण ड्रिल की तरह ही है इसमें टाइन चाकू की तरह है यह टाइन्स मिट्टी में नाली जैसी आकार की दरार बनाता है जिससे खाद एवं बीज उचित मात्रा एवं गहराई पर पहुँचता है। जीरो टिलेज तकनीक के लाभ:- इस मशीन द्वारा बुवाई करने से 85-90 प्रतिशत इंधन, उर्जा एवं समय की बचत की जा सकती है। इस विधि को अपनाने से खरपतवारों का जमाव कम होता है। इस मशीन के द्वारा 1-1.5 एकड़ भूमि की बुवाई 1 घंटे में की जा सकती हैं यह कम उर्जा की खपत तकनीक है अतः समय से बुवाई की दशा में इससे खेत तैयार करने की लागत 2000-2500 रू. प्रति हेक्टर की बचत होती है। समय से बुवाई एवं 10-15 दिन खेत की तैयारी के समय को बचा कर बुवाई करने से अच्छा उत्पादन लिया जा सकता है। बुवाई शुरू करने से पहले मशीन का अंशशोधन कर ले जिससे खाद एवं बीज की उचित मात्रा डाली जा सके। इस मशीन में सिर्फ दानेदार खाद का ही प्रयोग करें जिससे पाइपों में अवरोध उत्पन्न न हो। मशीन के पीछे पाटा कभी न लगाएँ।
स्रोत:- किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग मध्यप्रदेश, किसान भाइयों यदि आपको दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक 👍 करें एवं अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद।
14
0
संबंधित लेख