एग्री डॉक्टर सलाहएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
मक्का के दानों को बोल्ड और चमकदार बनाने के लिए!
मक्का की फसल में दाना भरने की अवस्था पर संतुलित उर्वरक के प्रयोग से मक्के के स्वस्थ और गुणवत्ता पूर्ण दाने का विकास होता है। जिससे आप मक्के की फसल से अच्छा उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं। इस अवस्था पर फसल में नमी की कमी और पोषक तत्व की कमी उत्पादन को कम कर सकती है। इसलिए संकर मक्का में बुवाई के 50-60 दिन बाद एवं संकुल में 45-50 दिन बाद, एन.पी.के @ 00:52:34 @ 5 ग्राम + सूक्ष्म पोषक तत्व @ 1 ग्राम प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर पत्तियों पर छिड़काव करें। यदि पोधो की उचाई अधिक होने के कारण पत्तियों पर छिड़काव संभव नही है तो आप एन.पी.के @ 00:52:34 @ 3 किलोग्राम मात्रा रेत या मिट्टी में मिलाकर प्रति एकड़ जमीन के माध्यम से प्रयोग करें। खेत में नमी कम होने पर तुरंत फसल की सिंचाई करें। खड़ी फसल में उरवर्क का प्रयोग निंदाई के उपरान्त ही करें। संतुलित उर्वरकों के उपयोग में सावधनियां:- समय पर संतुलित खाद उचित विधि से दें एवं अधिक खाद का प्रयोग न करें।
स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस प्रिय किसान भाइयों दी गई जानकारी उपयोगी लगी, तो इसे लाइक करें एवं अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें धन्यवाद!
12
3
संबंधित लेख