Looking for our company website?  
वयस्क पशुओं के लिए संतुलित आहार
वयस्क पशु के लिए 1 किलो पशुआहार ( 20 % प्रोटीन युक्त ) शरीर को निर्वाह के लिए दिया जाना चाहिए। अगर पशुआहार में प्रोटीन की मात्रा कम हे तो 1.5 किलोग्राम पशुआहार देना...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
15
1
हाइब्रिड नेपियर घास
हाइब्रिड नेपियर घास अधिक उत्पादक तो देता ही है साथ ही उसमे 2 -3% ओक्सेलेट की मात्रा होने के कारण घास के रूप में उपयोग करने से कैल्शियम की मात्रा बढ़ाना आवश्यक है।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
147
22
पशु आहार में उपयोगी तल की केक
अन्य खली की तुलना मे तल की खली में कैल्शियम की प्रमाण अधिक (2 %) मात्रा में होता है। इस प्रकार, तली प्रोटीन, कैल्शियम और फास्फोरस का एक अच्छा स्रोत हैं।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
244
9
थानों की सूजन के लिए
इस रोग के निदान के लिए रोग के चिन्ह, दूध की जाँच या थानों की जाँच से होता है। दूध की जाँच मैस्टाइटिस डिटेक्शन किट या क्लोराइट टेस्टल केटालेज टेस्ट द्वारा किया जा सकता है।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
117
22
भेड बकरी में रोग फैलने पर
भेड़ और बकरियाँ में भी गायों और भैंसों जैसी कई तरह की बीमारियों देखने को मिलती है, गाय और भैंसो की मात्रा में भेड़ और बकरियों में बीमारी का प्रसार बहुत तेजी से होता...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
76
7
भेड़ बाकिरियो में होने वाला enterotoxemia रोग
यह रोग क्लोस्ट्रियम नामक जीवाणु से होने वाला एक गंभीर रोग है, यह रोग में पशु दीवार के साथ शर टकराते है, चक्कर आना आदि चिन्ह होता है। इस रोग का उपचार तुरंत करना आवश्यकता...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
122
5
दूध दोहन के बीच की अवधि
दूध दोहन का बीच का अवधि बारह घंटे रखना आवश्यक है, अगर कोई पशु ज्यादा मात्रा में दूध देता हे तब उनको दिन में तीन बाद दोहन करना चाहिए।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
54
6
दूध उत्पादन हेतु अजोला चारा
इनका उपयोग पशु के दूध की मात्रा एवं वसा प्रतिशत बढ़ने के लिए किया जा रहा हे। इनके उत्पादन मे कम लागत आती है। अजोला के कारण पशु में 10 से 15 प्रतिशत दूध बढ़ता है।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
169
6
नफाकारी पशुपालन
• पशु को हररोज टुकड़े किये गए चारा ही खिलाये • ठंड, गर्मी और बारिश से बचाने के लिए एक अच्छा शेड बनाएं। • मौसम के अनुसार पर्याप्त, स्वच्छ पानी और पौष्टिक आहार दें।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
105
3
शुरुआती दूध का निकाल
दूध निकालना शुरू करते समय, पहले दूध के धार (फॉर मिल्क )को एक अलग बर्तन में निकालना चाहिए।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
114
2
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
13 Mar 20, 12:00 PM
स्वस्थ दूध उत्पादन के लिए रखे ध्यान
दूध जिन बर्तन में निकालना हे उस बर्तन स्टरनलेस स्टील और चुस्त ठंककन वाला और स्वस्छ होना जरुरी है।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
167
5
दूध दोहन के वक्त रखे ध्यान
दूध दोहन की प्रक्रिया 5 से 7 मिनट के भीतर जल्दी और सहजता से पूरा किया जाना चाहिए। उस वक्त पशु के नजदीक अज्ञात व्यक्ति का आना जाना नहीं होना चाहिए।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
198
12
बीमार जानवर को दूध पिलाते समय रखें ध्यान
बीमार दिखने वाले पशु को अलग आवास में बांधा जाना चाहिए और अंत में दुध निकालना चाहिए। साथ ही, इसे पशु का दूध को स्वस्थ दूध में नहीं मिलाया जाना चाहिए।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
113
9
समय समय पर मस्टाइटिस की जाँच
मस्टाइटिस की समयांतर जाँच के रूप में स्टिकी कप या अन्य पद्धति से समय समय पर जाँच करनी चाहिए।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
85
7
थन ब्लॉक हो जाना
थन की लंबाई के हिसाब से निम की stick ले, उन पर हल्दी और मखन बनाकर लगाए। इस मलम लगाई हुई स्टिक को घड़ी के कांटे के उलटी दिशा में थनो में डाले इसके कारन ब्लॉक हुए थन खुल...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
113
11
थनो में पानी भरा जाना
इस स्थिति में तल या सरसो का तेल २०० मिली जितना गर्म करे, इसमें एक मुट्ठी हल्दी और लहसुन के टुकड़े डालिये,धोल को अच्छे से मिक्स करे और उबलने से पहले गैस पर से उतर ले,...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
101
3
चाफ कटर का प्रयोग
चारे के अपव्यय को रोकने के लिए चारे को दो से तीन सेंटीमीटर के टुकड़ों में काटना चाहिए। इस तरह, कटा हुआ चारा आसानी से जानवर खा सकते हैं और चारे की बर्बादी को रोक सकते हैं।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
263
5
रखिये अपने पशुओं को स्वास्थ्य
1. नवजात बछड़े बछड़ी के आंतर परजीवी नाशक दवाई नियमित रूप से देनी चाहिए। 2. मेमनों को पी.पी.आर की टिका देना चाहिए।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
39
0
पशुओं का स्वास्थ्य
पशु से दूध निकालने के बाद पशु तुरंत बैठने नहीं देना चाहिए। इसके लिए दूध निकालने के बाद चारा डाले। जिससे वो बैठेगा नहीं और उनके थनों में बीमारी नहीं लगेगी।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
218
9
गाभिन पशुओं की देखभाल
गाभिन पशुओ को 6 -7 महीने होने पर चराने के लिए बहार नहीं ले जाना चाहिए एवं असमतल रास्ते से लाने लेजाने से बचें। पशुओ को खड़े और बैठने के लिए पर्याप्त जगह रहनी चाहिए।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
94
4
और देखिएं