Looking for our company website?  
करेला का बीजउपचार कैसे करें
करेले के बीज उपचार के लिए कार्बेन्डाजिम 50% डब्ल्यूपी 2 ग्राम प्रति किलोग्राम या ट्राईकोडर्मा 4 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से उपचारित करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
24
0
थानों की सूजन के लिए
इस रोग के निदान के लिए रोग के चिन्ह, दूध की जाँच या थानों की जाँच से होता है। दूध की जाँच मैस्टाइटिस डिटेक्शन किट या क्लोराइट टेस्टल केटालेज टेस्ट द्वारा किया जा सकता है।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
20
5
ग्रीष्मकालीन हरे चारे की बुआई
ग्रीष्मकालीन हरे चारे के लिए मक्का अफ्रीकन टाल, ज्वार एम पी चरी तथा लोबिया की बुआई करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
31
1
नींबू वर्गीय पौधों में पत्ती सुरंगक का नियंत्रण
नींबू वर्गीय पौधों में पत्ती सुरंगक के नियंत्रण के लिए कार्बोफ्‌यूरान 3 प्रतिशत सीजी 20 किग्रा. प्रति एकर की दर से भुरकाव कर सिंचाई करें ।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
34
0
भेड बकरी में रोग फैलने पर
भेड़ और बकरियाँ में भी गायों और भैंसों जैसी कई तरह की बीमारियों देखने को मिलती है, गाय और भैंसो की मात्रा में भेड़ और बकरियों में बीमारी का प्रसार बहुत तेजी से होता...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
40
4
लीची में फल झड़ने की रोकथाम
लीची में फल लगने के एक सप्ताह बाद प्लैनोफिक्स 1 मिली प्रति 4.5 लीटर पानी मे घोलकर छिड़काव करके फलों को झड़ने से रोका जा सकता है ।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
22
2
नींबू वर्गीय पौधों में नेमाटोड़ का नियंत्रण
नींबू वर्गीय पौधों में नेमाटोड़ के नियंत्रण के लिए कार्बोफ्यूरान 3 प्रतिशत सीजी 5 किग्रा. प्रति एकर की दर से भुरकाव कर सिंचाई करें ।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
33
4
केला में नेमाटोड़ का नियंत्रण
केला में नेमाटोड़ के नियंत्रण के लिए कार्बोफ्‌यूरान 3 प्रतिशत सीजी 50 ग्राम प्रति पौधा की दर से भुरकाव कर सिंचाई करें
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
23
1
भेड़ बाकिरियो में होने वाला enterotoxemia रोग
यह रोग क्लोस्ट्रियम नामक जीवाणु से होने वाला एक गंभीर रोग है, यह रोग में पशु दीवार के साथ शर टकराते है, चक्कर आना आदि चिन्ह होता है। इस रोग का उपचार तुरंत करना आवश्यकता...
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
100
2
संतरा में सॉफ्ट ग्रीन स्केल का नियंत्रण
संतरा में सॉफ्ट ग्रीन स्केल के नियंत्रण के लिए कार्बोफ्‌यूरान 3 प्रतिशत सीजी 13.3 ग्राम प्रति पौधा की दर से भुरकाव कर सिंचाई करें ।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
18
0
केला में सिगटोका पत्ती धब्बा की रोकथाम
केला में सिगटोका पत्ती धब्बा रोग की रोकथाम के लिए टेबुकोनाज़ोल 50% + ट्राईफ्लोक्सिस्ट्रोबिन 25% डब्ल्यूजी 120 ग्राम प्रति एकर 300 लीटर पानी मे घोलकर छिडकाव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
28
0
दूध दोहन के बीच की अवधि
दूध दोहन का बीच का अवधि बारह घंटे रखना आवश्यक है, अगर कोई पशु ज्यादा मात्रा में दूध देता हे तब उनको दिन में तीन बाद दोहन करना चाहिए।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
41
4
अनार में फल धब्बा रोग की रोकथाम
अनार में फल धब्बा रोग की रोकथाम के लिए मेटिराम 55% + पायराक्लोस्ट्रोबिन 5% डब्ल्यूजी 600 ग्राम प्रति एकर 200 लीटर पानी मे घोलकर छिड़काव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
42
1
संतरा में अधिक उत्पादन के लिए
संतरा में अंबिया बाहर के लिए पौधों पर जिबरेलिक एसिड 1.5 ग्राम + यूरिया 1 किलोग्राम 100 लीटर पानी मे घोलकर छिड़काव करें इससे फलों का आकार बढेगा एवं फल पेड़ पर टिके रहेंगे।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
54
0
भिण्डी में सिंचाई प्रबंधन
मृदा में अंकुरण के समय पर्याप्त नमी न हो तो बुआई के तुरन्त बाद हल्की सिंचाई कर दें। अच्छी फसल प्राप्त करने के लिए आवश्यकतानुसार सिंचाई करते रहें। सिंचाई मार्च में 10-12...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
73
5
दूध उत्पादन हेतु अजोला चारा
इनका उपयोग पशु के दूध की मात्रा एवं वसा प्रतिशत बढ़ने के लिए किया जा रहा हे। इनके उत्पादन मे कम लागत आती है। अजोला के कारण पशु में 10 से 15 प्रतिशत दूध बढ़ता है।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
152
5
अंगूर में मृदु रोमिल असिता रोग की रोकथाम
अंगूर में मृदु रोमिल असिता रोग की रोकथाम के लिए मेटिराम 55% + पायराक्लोस्ट्रोबिन 5% डब्ल्यूजी 600 ग्राम प्रति एकर 300 लीटर पानी मे घोलकर छिड़काव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
10
0
संतरा में सिंचाई प्रबंधन
इस माह में संतरे के पेड़ों पर नई कोपलें, फूल तथा फल लगते है। अतः पौधों को डबल रिंग पद्धति द्वारा 7 से 10 दिन के अंतराल पर सिंचाई करें। यदि आपके पास टपक सिंचाई हो तो...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
29
0
नफाकारी पशुपालन
• पशु को हररोज टुकड़े किये गए चारा ही खिलाये • ठंड, गर्मी और बारिश से बचाने के लिए एक अच्छा शेड बनाएं। • मौसम के अनुसार पर्याप्त, स्वच्छ पानी और पौष्टिक आहार दें।
आज का सुझाव  |  पशु चिकित्सक
99
3
अंगूर में एन्थ्रेक्नोंज, पत्ती धब्बा एवं भभूतिया रोग की रोकथाम
अंगूर में एन्थ्रेक्नोंज, पत्ती धब्बा एवं भभूतिया रोग की रोकथाम के लिए एजोक्सिस्ट्रोबिन 8.3% + मेन्कोजेब 66.7% डब्ल्यूजी 600 ग्राम प्रति एकर 200 लीटर पानी मे घोलकर छिडकाव...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
11
0
और देखिएं