सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
रासायनिक उर्वरकों की कार्य क्षमता बढ़ाने के तरीके!
● उर्वरकों को असमय मिट्टी में नहीं फेंकना चाहिए। उन्हें केवल तभी उपयोग किया जाना चाहिए जब मिट्टी में उपयुक्त नमी हो। ● बुवाई के समय उर्वरकों को बीज के नीचे लगाना चाहिए। ● लेपित उर्वरक / ब्रिकेट / सुपर ग्रैन्यूल का उपयोग किया जाना चाहिए। इन्हें 1: 5 के अनुपात में यूरिया और नीम के केक के साथ इस्तेमाल किया जाना चाहिए। ● फसल वृद्धि के संवेदनशील अवस्था के दौरान उर्वरकों को दिया जाना चाहिए। ● तरल उर्वरकों को ड्रिप सिंचाई के माध्यम से दिया जाना चाहिए। ● अनाज वाली फसलों के लिए, उर्वरकों को 4:2:2:1 (नाइट्रोजन: फॉस्फोरस: पोटाश: सल्फर) के अनुपात में दिया जाना चाहिए और दालों के लिए उन्हें 1:2:1:1 के अनुपात में लगाया जाना चाहिए। ● जैविक उर्वरकों के नियमित उपयोग से मिट्टी का पीएच 6.5 से 7.5 के बीच बनाए रखा जाना चाहिए। ● मिट्टी की सुरक्षा के लिए, मिट्टी के संरक्षण, जैविक खेती और एकीकृत रासायनिक और जैविक खेती करके मिट्टी के स्वास्थ्य को बनाए रखें। यह समय की जरूरत है।
स्रोत:- एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस यहां दी गई जानकारी आपको उपयोगी लगे तो, लाइक करें और अपने अन्य किसान मित्रों के साथ शेयर करें।
21
1