Looking for our company website?  
पत्तागोभी में हीरक पृष्ठ कीट का नियंत्रण
पत्तागोभी में हीरक पृष्ठ कीट के नियंत्रण हेतु स्पिनोसैड 2.5 % एस सी @ 250 मिली प्रति एकड 200 लीटर पानी मे घोलकर छिडकाव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
24
0
पशुओं में अफरा की समस्या
जुगाली करने वाले ( गाय और भैंस) में अफरा की समस्या पाई जाती है। इस रोग के कारण पशु के पेट में ज्यादा गैस बन जाती है। अफरा की समस्या अधिक हो और सही उपचार न मिल तो पशुओं...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
213
0
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
01 Nov 19, 06:00 AM
गेहूँ का बीजोपचार:
एक किलोग्राम गेहू के बीज के लिए टेबुकोनाजोल 2 % डी एस का20 ग्रामप्रति लीटर पानी में घोल बना कर उपचारित करे I इसके बाद एजोटोबेक्टर कल्चर 5 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
274
33
बैंगन में मकड़ी का नियंत्रण
बैंगन की फसल में मकड़ी कीट के नियंत्रण हेतु प्रोपरगाइट 57 % ई सी @ 400 मिली प्रति एकड़ 200 लीटर पानी या स्पिरोमेसिफेन 22.9% एस.सी.@ 160 मिली प्रति एकड़ 200 लीटर पानी...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
46
3
गाभिन पशु की देखभाल
6-7 महीने के गाभिन पशु को बहार चराने के लिए नहीं ले जाना चाहिए। उसे खड़े और बैठने के लिए पर्याप्त स्थान मिलना चाहिए।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
308
0
अलसी में बीज उपचार
अलसी फसल की बुवाई से पूर्व बीज को कार्बेन्डाजिम 50 डब्लू पी @ 2.5 से 3 ग्राम मात्रा प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचारित करना चाहिए अथवा ट्राईकोडर्मा विरीडी @ 5 ग्राम...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
15
0
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
29 Oct 19, 06:00 AM
लहसुन की उन्नत किस्में
लहसुन से अधिक उत्पादन हेतु उन्नत किस्में जी 282, जी 323 की बुआई करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
139
0
स्वस्थ दूध उत्पादन के देखभाल
दुधारू पशु में ज्यादातर संक्रमण दूध दोहन के समय ही होता है। इसलिए जरुरी है की दूध दोहन के समय पशु व् रहेठान, दूध दोहन वाले व्यक्ति, वर्तन व् आसपास के क्षेत्र की साफ़...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
1296
0
टमाटर में माहु,हरा तेला,तना एवं फल छेदक कीट के नियंत्रण
टमाटर में माहु, हरा तेला, तना एवं फल छेदक कीट के नियंत्रण के लिए लैम्बडा साइहलोथ्रिन 9.5% + थियामेथोक्साम 12.6% ज़ेडसी@ 50 मिली/ प्रति एकड़ 200 लीटर पानी मे घोलकर छिड़काव...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
82
7
प्याज की फसल की गुणवत्ता में सुधार
प्याज फसल में तीखापन बढ़ाने और प्याज़ की गुणवत्ता में सुधार के लिए, फसल की वृद्धि अवस्था में सल्फर 90% @ 3 किलोग्राम प्रति एकड़ इसे उर्वरकों में दो बार विभाजित करके दीजिए।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
138
6
चाफ कटर का महत्व
पशुपालन में चाफ कटर का विशेष महत्व है। पशु को कट किया चारा देने से आराम से खा सकते है। मुख्य बात यह है कि chaffcutter का उपयोग से घास की बर्बाद कम होती है। चाफ्टिंग...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
568
0
सर्दियों में फसल वृद्धि के लिए उचित नियोजन
सर्दियों में कम तापमान के कारण, फसल की वृद्धि की बढ़वार नहीं होती है। अगर संभव हो तो, पूर्व फसल के दौरान मिट्टी से अच्छी तरह से भुना हुआ गोबर का उपयोग करे और यदि फसल...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
57
0
प्याज में थ्रिप्स का नियंत्रण
प्याज की फसल में थ्रिप्स के नियंत्रण के लिए फिप्रोनिल 5 % एस.सी. @400 मिली प्रति एकड़ 200 लीटर पानी में घोलकर छिडकाव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
85
1
दूध देने वाले पशुओं की देखभाल
दूध देने वाले पशुओं को प्रतिदिन 70-80 लीटर स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति की जानी चाहिए।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
393
0
पशु चारा
हरे चारे हेतु बरसीम की किस्में (जे बी- 1, जे बी- 5, वरदान)जई की किस्में (जवाहर जई- 1, जे एच ओ- 822), रिजका की किस्में ( आनंद- 2, टी- 9) का उपयोग करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
36
0
अमरूद में नेमाटोड की रोकथाम
अमरूद में नेमाटोड की रोकथाम के लिए सूत्रकृमी नियंत्रण कवक पेसियोलोमायसिस लीलासिनस (Paecilomyces lilacinus) 1 लीटर प्रति एकड़ ड्रिप के द्वारा देना चाहिए।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
43
3
पशुपालन के लिए अच्छी नस्ल का चयन करें।
समय आ गया है जब हमें अपनी घरेलू नस्ल के साथ पशुपालन का अभ्यास करना चाहिए। घरेलू नस्लों में विशेष प्रति रोधक क्षमता होती है; इसलिए, हमें अपनी देसी नस्ल की गायों और भैंसों...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
326
0
टमाटर में अगेती एवं पछेती झुलसा रोग की रोकथाम
टमाटर की फसल में अगेती एवं पछेती झुलसा रोग की रोकथाम के लिए एज़ोक्सीस्ट्रोबिन 18.2% w/w + डाईफेनाकोनाज़ोल 11.4% w/w एस.सी. @ 200 मिली प्रति एकड़ 200 लीटर पानीमे घोलकर...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
123
11
पपीता में जड़ सड़न की समस्या एवं दीमक कीटका प्रबंधन
पपीता में जड़ सड़न की समस्या एवं दीमक कीट की रोकथाम के लिए क्लोरोपायरीफास 20% ई.सी. @ 2 मिली प्रति लीटर पानी + कार्बेनडाज़िम 50% डब्लू.पी. @ 1 ग्राम प्रति लीटर पानी में...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
52
2
पशुओं का स्वास्थ्य महत्वपूर्ण है।
यूरिया डालने के 15-20 दिनों के बाद ही पशु को चारा खिलाएं; यदि पशुओं में विषाक्तता देखी जाती है, तो पशुओं को तुरंत निकटतम पशु चिकित्सक के पास ले जाना चाहिए।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
186
0
और देखिए