Looking for our company website?  
आलू की फसल में कुतरा (कट वार्म) कीट का नियंत्रण
आलू को सब्जियों का राजा माना जाता है। अधिकांश किसानों ने आलू लगाए होंगे। मुख्य रूप से कटे हुए कीड़े और पत्ती खाने वाले सुंडी से फसल खराब हो गई। फसल की परिपक्वता के...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
51
0
कपास के पत्तों का लाल होना और इसका उपचार
कपास की पत्तियां आमतौर पर दो कारणों से लाल होती हैं। यदि हरा तेला का पूर्ण रूप से नियंत्रण नहीं होता है, तो पत्ती लाल और भंगुर हो जाती है। दूसरा कारण पौधों के गुणधर्म...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
159
20
सरसों के आरा मक्खी का एकीकृत कीट प्रबंधन
कनाडा दुनिया में सरसों का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। भारत में, राजस्थान के बाद सरसों के उत्पादन के लिए उत्तर प्रदेश पहले स्थान पर है। मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, गुजरात...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
133
2
पत्ती खाने वाली इल्ली के लिए ज़हरीला चारा
पत्ती खाने वाले इल्ली और सैनिक कीट अरंडी, कपास, धान, घाँस, तंबाकू, सब्जियों की पौध, गोभी, विभिन्न फूलगोभी, आलू, केला, गेहूं, मक्का, बाजरा, ज्वार, मूंगफली, सोयाबीन जैसी...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
151
0
फेरोमोन जाल: उपयोग करते समय बरतें सावधानियां
किसान अक्सर अपने फसल पौधों को नुकसान पहुंचाने वाले कीटों के नियंत्रण के लिए कीटनाशकों पर भरोसा करते हैं। कभी-कभी, अनावश्यक और अंधाधुंध कीटनाशकों के प्रयोग से पर्यावरण...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
108
0
अरहर की फसल में फली छेदक का एकीकृत कीट प्रबंधन (आईपीएम)
अरहर दलहनी फसल के लिए सबसे महत्वपूर्ण है जो भारत के सभी राज्यों में उगाई जाती है। कुछ स्थानों पर इस फसल की खेती मक्का या कपास के साथ भी की जाती है। यदि फल एवं फूल...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
79
0
दीमक का पूर्व नियंत्रण के लिए गेहूं का बीजोपचार
गेहूं के फसल की खेती शीतकालीन अनाज फसल के रूप में की जाती है। गेहूं की खेती सिंचित या असिंचित दोनों तरह से की जा सकती है। इस वर्ष, मानसून अच्छा रहा और पर्याप्त से अधिक...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
503
75
बैंगन को मुख्य क्षेत्र में प्रत्यारोपण करने से पहले एहतियाती उपाय
आमतौर पर किसान सालभर बैंगन की फसल लगाते हैं। कुछ रस चूसने वाले कीट जैसे माहु, हरा तेला, सफेद मक्खी, मकड़ी और साथ ही शीर्ष बेधक एंव फल छेदक इस फसल को प्रभावित कर रहे...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
190
15
अनार में फल छेदक (ड्यूडोरिक्स इसोक्रेट्स)
अनार की खेती भारत में औसतन 109.2 हजार हेक्टेयर में की जाती है। फलों की फसल में, अधिकांश कीट अनार को नुकसान पहुंचा रहे हैं, इसमें सबसे ज्यादा फल छेदक नुकसान पंहुचा रहा...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
175
16
गोभी में हीरक पृष्ठ कीट का एकीकृत कीट प्रबंधन
किसान आम तौर पर साल भर गोभी की फसल उगाते हैं। भारत में, 6.87 मिलियन टन के उत्पादन के साथ 0.31 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्र में गोभी के फसलों की खेती की जा रही है। पश्चिम...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
106
4
कपास की फसल में गुलाबी इल्ली का नियंत्रण
पिछले कुछ वर्षों से, गुलाबी इल्ली का संक्रमण कपास को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा रहा है। कलियों, फूलों और विकासशील डोडों पर इस इल्ली द्वारा दिए गए अंडे आमतौर पर आगे...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
488
77
सेमीलूपर और पत्ती खाने वाली इल्ली से अपनी अरंडी फसल को बचाएं
अरंडी की फसल देश के अधिकांश भागों में उगाई जाती है। इस फसल की खेती कुछ राज्यों में मूंगफली और कपास में अंतर - फसल के रूप में भी की जाती है। कुछ चूसने वाले कीटों के...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
175
5
धान की फसल में बाली आने की अवस्था में आने वाले प्रमुख कीट
देश के अधिकांश हिस्सों में धान की रोपाई समाप्त हो गई है और कुछ क्षेत्रों में फल एवं फूल अवस्था शुरू होने वाली है। इस अवस्था में अपर्याप्त देखभाल की स्थिति में, किसानों...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
330
40
कपास की फसल में मिलीबग कीट का एकीकृत प्रबंधन
मिलीबग भारतीय मूल का कीट नहीं है और यह किसी और देश से आया हुआ है। इसका प्रकोप पहली बार 2006 में गुजरात में देखा गया था, जिसके बाद में अन्य राज्यों में भी देखा गया।...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
511
72
लोबिया, मूंग और उड़द में चित्तीदार फली छेदक इल्ली का प्रबंधन
लोबिया, मूंग और उड़द के खेतों में प्रजनन अवस्था में (फूल आने की अवस्था एवं फल बनने की अवस्था) इसका प्रभाव होता है। आम तौर पर, इन फसलों में चित्तीदार फली छेदक इल्ली का...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
155
4
मूंगफली के अधिकतम उत्पादन के लिए अनुशंसित उर्वरकों की मात्रा दें
किसान का नाम: श्री नितेश भाई गोहेल राज्य: गुजरात सुझाव: प्रति एकड़ 25 किलो 20:20:0:13, 25 किलो पोटाश,8 किलो सल्फर 90% मिट्टी के साथ खेत में भुरकाव करें।
आज का फोटो  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
409
9
फसलों में चूहों का प्रभावी नियंत्रण
सब्जियों, तिलहनों, अनाज आदि कई फसलों की प्रारंभिक अवस्था में चूहे फसल को खराब करते हैं। वह मनुष्यों और अन्य जानवरों में सार्वजनिक स्वास्थ्य रोग जैसे प्लेग, लेप्टोस्पायरोसिस...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
355
27
गन्ने की फसल में पायरिल्ला कीट का नियंत्रण
यह कीट बहुत फुर्तीले होते हैं, एक पत्ते से दूसरे पत्ते पर कूदते हैं। जिस क्षेत्र में इनका संक्रमण अधिक होता है वहां जोर से शोर होता है। निम्फ और वयस्क दोनों ही...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
112
11
फसलों में मकड़ी का प्रबंधन
मकड़ी गैर-कीट की श्रेणी में आती है। बदलती पर्यावरणीय स्थिति, फसल के स्वरूप में बदलाव आदि मकड़ी की बढ़ती संख्या के कारण हैं। फसलों की क्षति के अलावा, कुछ प्रजातियों को...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
139
0
मूंगफली की फसल में पत्ती खाने वाली इल्लियों का नियंत्रण
पत्ती खाने वाली इल्लियों (सुंडी) को 'सैनिक कीट' और तंबाकू की पत्ती खाने वाली इल्ली (सुंडी) के नाम से भी जाना जाता है। गर्म मौसम की स्थिति में इनका संक्रमण अधिक समय...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
232
10
और देखिए