Looking for our company website?  
प्याज के अधिकतम उत्पादन के लिए उपयुक्त पोषक तत्व प्रबंधन
किसान का नाम - श्री.सिद्धाराम बिरादार राज्य - कर्नाटक सलाह - 19:19:19 @100 ग्राम + चिलेटेड सूक्ष्मपोषक तत्व @20 ग्राम प्रति पंप छिड़काव करें।
आज का फोटो  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
630
70
चने में खाद एवं उर्वरक का उपयोग
चने की अच्छी उपज के लिए खाद एवं उर्वरकों का उपयोग मिट्टी परीक्षण के आधार पर ही किया जाना चाहिए। अच्छी उपज प्राप्त करने के लिए 50 किलोग्राम डीएपी, 15 किलोग्राम म्यूरेट...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
76
0
गोभी में हीरक पृष्ठ कीट का एकीकृत कीट प्रबंधन
किसान आम तौर पर साल भर गोभी की फसल उगाते हैं। भारत में, 6.87 मिलियन टन के उत्पादन के साथ 0.31 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्र में गोभी के फसलों की खेती की जा रही है। पश्चिम...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
86
0
मसूर का बीजोपचार
मसूर की फसल में उकठा रोग का संक्रमण अधिक होता है इसकी रोकथाम के लिए थायरम 2 ग्राम +कार्बेनडाज़िम 1 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज की दर से बीज उपचारित करके बुवाई करनी चाहिए।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
54
0
मिर्च की फसल में मल्चिंग तकनीक
मिर्च फसल की आधुनिक खेती में सिंचाई के लिए ड्रिप पद्धति के साथ-साथ 25 से 30 माइक्रोन मोटाई वाली सिल्वर ब्लैक कलर की प्लास्टिक मल्चिंग शीट का प्रयोग किया जाता है। जिससे...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
106
0
चने का बीजोपचार
चने की फसल में उकठा एवं जड़ सड़न रोग से बचाने के लिए थायरम 2 ग्राम + कार्बेन्डाजिम 1 ग्राम प्रति किलोग्राम या ट्राइकोडर्मा 4 ग्राम प्रति किलोग्राम की दर से बीज उपचारित...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
114
0
मिर्च में मकड़ी का नियंत्रण
मिर्च की फसल में मकड़ी कीट के नियंत्रण हेतु प्रोपरगाइट 57 % ई सी @ 400 मिली प्रति एकड़ 200 लीटर पानी या स्पिरोमेसिफेन 22.9% एस.सी.160 मिली प्रति एकड़ 200 लीटर पानी में...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
117
1
जैविक फार्म यार्ड खाद इस प्रकार बनाएं
किसान भाई अपने खेत में जैविक फार्म यार्ड खाद बड़ी आसानी से बना सकते है। इसके लिए आप 0.9 मीटर गहरा, 2.4 मीटर चौड़ा, और अपने मिश्रित पदार्थों के अनुपात में 5 मीटर लम्बा...
जैविक खेती  |  दैनिक जागरण
427
2
सरसों का बीजोपचार
सरसों की फसल को बीज जनित बीमारियों से बचाने के लिये बीजोपचार आवश्यक है। पत्ती धब्बा रोग एवं पत्ती के निचले सतह पर दिखने वाले सफ़ेद धब्बे से बचाव हेतु मेटालेक्जिल 6 ग्राम...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
186
6
गन्ने का बीजोपचार
गन्ने के बीज जनित रोग व कीटों से बचाव के लिए कार्बेन्डाजिम 2 ग्राम/ लीटर पानी व क्लोरोपायरीफॉस 5 मि.ली./ लीटर की दर से घोल बनाकर बीज को 15 मिनट तक घोल में डुबोकर उपचार...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
75
0
कपास की फसल में गुलाबी इल्ली का नियंत्रण
पिछले कुछ वर्षों से, गुलाबी इल्ली का संक्रमण कपास को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा रहा है। कलियों, फूलों और विकासशील डोडों पर इस इल्ली द्वारा दिए गए अंडे आमतौर पर आगे...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
360
50
टमाटर में फल छेदक कीट का नियंत्रण
टमाटर में फल छेदक कीट के नियंत्रण के लिए इमामेक्टिन बेन्जोएट 5% एस.जी. @100 ग्राम प्रति एकड़ 200 लीटर पानी या क्लोरोन्ट्रेनिलीप्रोल 18.5%एस.सी. @60 मिली प्रति एकड़...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
66
1
नींबू में रोग प्रबंधन
नींबू में फाइटोपाथोरा रोग से ग्रसित पौधों पर फोस्टील ए एल 80% डब्ल्यू.पी. @2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी में मिलाकर पूरे पेड़ पर छिड़काव करें ताकि वह अच्छी तरह गीला हो जाये।...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
28
0
पैसिलोमयीसिस लिलसिनस
पैसिलोमयीसिस लिलसिनस विभिन्न प्रकार की मिट्टी में प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला कवक है। यह कवक 21-32 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर जीवित रहता है। यदि मिट्टी का तापमान...
जैविक खेती  |  एग्रोवन
106
0
धान में रस चूसक कीटों का नियंत्रण
धान में रस चूसक कीटों के नियंत्रण के लिए इमिडाक्लोप्रीड 17.8% एस.एल. @5 मिली प्रति 15 लीटर पानी या थायोमिेथॉक्साम 25 % डब्ल्यू.जी. 5 ग्राम प्रति 15 लीटर पानी में घोलकर...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
174
7
प्याज की फसल में कवक का संक्रमण
किसान का नाम - श्री. दीपक पाटिल राज्य - महाराष्ट्र सलाह - कार्बेन्डाजिम 12% + मैनकोजेब 63% डब्ल्यूपी @35 ग्राम प्रति पंप छिड़काव करें।
आज का फोटो  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
459
63
मूंगफली में रस चूसक कीटों का नियंत्रण
मूंगफली में रस चूसक कीटों के नियंत्रण के लिए इमिडाक्लोरपिड @40 मि.ली. प्रति एकड़ 200 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
62
0
सेमीलूपर और पत्ती खाने वाली इल्ली से अपनी अरंडी फसल को बचाएं
अरंडी की फसल देश के अधिकांश भागों में उगाई जाती है। इस फसल की खेती कुछ राज्यों में मूंगफली और कपास में अंतर - फसल के रूप में भी की जाती है। कुछ चूसने वाले कीटों के...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
158
4
अधिकतम उत्पादन के लिए गन्ने की फसल में उपयुक्त पोषक तत्व प्रबंधन
किसान का नाम: श्री मधु कुमार वाय एच राज्य: कर्नाटक सलाह: प्रति एकड़ 50 किलो यूरिया, 50 किलो 10:26:26, 50 किलोग्राम पोटाश और 100 किलो नीम केक को मिट्टी में मिलाएं।
आज का फोटो  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
444
24
अरंडी में पत्ती खाने वाली इल्ली का संक्रमण
किसान का नाम: श्री रूपराम जाट राज्य: राजस्थान सलाह: फ्लुबेंडियामाइड 20% डब्ल्यूजी @15 ग्राम प्रति पंप छिड़काव करें।
आज का फोटो  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
192
8
और देखिए