Looking for our company website?  
मूली की बुवाई
मूली की बुवाई अक्टूबर – नवम्बर माह में की जाती है I बुवाई मेड़ों तथा समतल क्यारियो में भी की जाती हैI लाइन से लाइन या मेड़ से मेंड़ की दूरी 45 से 50 सेंटीमीटर तथा ऊचाई...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
59
0
आंवला: इसके औषधीय उपयोग और उर्वरकों का प्रबंधन
आंवला, व्यापक रूप से एक भारतीय आंवले के या नेली रूप में जाना जाता है इसके औषधीय गुणों में वृद्धि हुई है। इसके फलों का उपयोग एनीमिया, घावों, दस्त, दांत दर्द और बुखार...
सलाहकार लेख  |  अपनी खेती
167
0
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
31 May 19, 06:00 AM
अंतर-फसल पर ध्यान दें।
खरीफ सीजन के दौरान मुख्य फसलों के साथ-साथ अंतर-फसल बोएं। उदाहरण के लिए, बाजरे के साथ अरहर और फलियां, ज्वार के साथ उड़द और मूंग और कपास में उड़द और मूंग की बुवाई की...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
181
0
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
22 Mar 19, 04:00 PM
किसान के उचित नियोजन से उत्पादन में वृद्धि
किसान का नाम - श्री संभाजी काले राज्य - महाराष्ट्र सलाह - प्रति एकड़ 3 किलो 13:0:45 ड्रिप द्वारा दें।
आज का फोटो  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
305
13
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
18 Mar 19, 10:00 AM
कोल्ड स्टोर : कम लागत में तैयार करें कोल्ड स्टोर
यह कोल्ड स्टोर पर्यावरण के अनुकूल होता है और इसे कोई भी आसानी से कम खर्च में तैयार कर सकता है।
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
272
36
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
03 Sep 18, 10:00 AM
मानसून बारिश ना होने पर निम्नलिखित उपाय किए जाने चाहिए
1) फसल विकास के अवस्था में पानी की पूर्ति के लिए व्यवस्था रखें। संभवतः पानी का हवा की गति कम होने पर दिया जाना चाहिए। सुबह या शाम को फसलों को पानी दें। 2) पानी की...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
63
12
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
29 Jun 18, 12:00 AM
मॉनसून में फल वाली फसलों में फंगल रोग की रोकथाम
बादल मौसम और भारी नमी के कारण मानसून की शुरूआत में, फलों के फसल पर फंगस फलों, शाखाओं और स्टेम पर हमला करके उन्हे नुकसान पहुंचाते हैं और साथ ही साथ उत्पादन के लिए फलों...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
50
20
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
29 Mar 18, 12:00 AM
केले में फसल व्यवस्था
केले की कटाई के समय,जब गुच्छे पक जाते हैं,एक मजबूत टहनी रख दी जनि चाहिए ताकि कटाई के बाद,थोड़े समय में रतून(ratoon)फसल प्राप्त की जा सके।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
101
32
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
27 Mar 18, 12:00 AM
बाजरा में आवश्यक खरपतवार-नियंत्रण के बाद की व्यवस्था
बाजरा में खरपतवार नियंत्रण के लिए, यदि किसी खरपतवारनाशी का उपयोग किया हो, तो इसका बाजरा की फसल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इसलिए,खरपतवारनाशी के छिड़काव के बाद, अगली...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
177
42
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
26 Mar 18, 12:00 AM
टमाटर पौधों के प्रत्यारोपण की व्यवस्था
गर्मियों में यदि टमाटर के पौधों की खेती के लिए ट्रे में लगाया जाए, तो बड़े कप वाली ( प्रति ट्रे 100 पौधों से कम) ट्रे का चयन करें ताकि प्रतिरोपण के बाद पौधों में अधिक...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
77
18
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
23 Mar 18, 12:00 AM
गर्मियों में गन्ने में पानी का तनाव कैसे टालें?
गर्मियों में पानी के तनाव के कारण गन्ने की उपज कम न हो इसलिए, निवारक उपाय के रूप में 200 मि.ली सिलिकॉन प्रति एकड़ के हिसाब से छिड़काव करें या ड्रिप द्वारा दें। सिलिका...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
152
113
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
22 Mar 18, 12:00 AM
धनिया में उपज सुधारने के लिए तकनीक
धनिया के बीज आमतौर पर 110-120 दिनों में परिपक्व होते हैं, लेकिन उचित और एक समान परिपक्वता और अधिक उपज के लिए, जब परिपक्व बीज भूरे रंग के होने लगे, तब पानी देना बंद...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
200
46
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
20 Mar 18, 12:00 AM
हल्दी कटाई की तकनीक
पकी हुई हल्दी फसल की कटाई करते समय पत्तों की कटाई जमीनी स्तर से 1 इंच ऊपर की जानी चाहिए। उसे 4-5 दिनों के लिए वैसे ही रखना चाहिए और हल्दी की खोदकर या मशीन से कटाई करनी...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
208
55
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
19 Mar 18, 12:00 AM
करेला और तरबूज अंकुरित पौधो की व्यवस्था
करेले और तरबूज के पौधों के प्रत्यारोपण से बुवाई में, जब पौधे में 2 पत्ता स्तिथी (औसत 20 दिन) हों तभी उसकी बुवाई होनी चाहिए, नहीं तो लम्बे अवधि के पौधे का प्रत्यारोपण...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
105
40
भिंडी के लिए महत्वपूर्ण बीज उपचार
अपने घर के बीज का उपयोग करने वाले किसानों को 10 ग्राम इमिडाक्लोप्रिड 70 डब्ल्यूएस / 9 मि.ली. इमिडाक्लोप्रिड 600 एफएस या 4.5 ग्राम थायोमेथोक्साम 70 डब्लूएस / 9 मि.ली.थायोमेथोक्साम...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
79
22
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
25 Feb 18, 12:00 AM
ज्वार- बाजरा बुवाई से पहले बीज उपचार आवश्यक है
बीज उपचार के लिए इमिडाक्लोप्रिड 70 डब्लूएस 5 ग्राम/ किग्रा का उपयोग करना, तना मक्खी की वजह से होनेवाला नुकसान को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करेगा।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
57
16
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
23 Feb 18, 12:00 AM
ग्रीष्मकालीन बाजरा की फसल में बीज की बुवाई ज्यादा कीजिए
अगर बाजरे के पौधे के विकास के बाद तना मक्खी के कारण नुकसान होता है, तो इकाई क्षेत्र में, नुकसान की भरपाई हो जाएगी और पौधों की संख्या को बनाए रखा जाएगा।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
71
19
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
22 Feb 18, 12:00 AM
बुवाई से पहले गहरी जुताई का महत्व
कुछ कोषस्थ कीट (सुप्त अवस्था) मिट्टी में पाए जाते हैं, जो नई फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं। इसलिए, गहरी जुताई की जानी चाहिए और एक सप्ताह के लिए मिट्टी को गर्म करना चाहिए।...
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
426
48
अमरूद के पेड़ की छंटाई और खाद व्यवस्था
अमरूद के पेड़ को नियमित रूप से छाँटने की ज़रूरत नहीं है, बल्कि वृक्ष को उचित मोड़ देने के लिए, युवा वृक्षों की छंटाई करना और बढ़ते नए तनों की कटाई फायदेमंद है। एक ही...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
69
29
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
08 Feb 18, 12:00 AM
डूरोमिस्ट नोजल का उपयोग करके कीटनाशक का छिड़काव करें।
छिड़काव के लिए किसी भी नोजल का उपयोग कीटनाशकों के प्रभावी परिणाम नहीं देता है। केवल सुझाई गई डुरोमिस्ट नोजल्स का उपयोग किया जाना चाहिए।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
141
33
और देखिए