AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
15 Jun 19, 06:00 AM
छोटे कपास के पौधों को तैला से बचाएं
ऐसफेट 75 एसपी @10 ग्राम या एसिटामिप्रिड 20 एसपी @7 ग्राम या फ्लोनिकमिड 50 डब्ल्यूजी @3 ग्राम प्रति 10 लीटर पानी के हिसाब से छिड़काव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
79
0
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
13 Jun 19, 04:00 PM
कीट और बीमारी से मुक्त करने के लिए कपास के पौधे पर कीटनाशक का छिड़काव करें
किसान का नाम - श्री. प्यारे कुमार राठौड़ राज्य - राजस्थान उपाय - थायोमेथॉक्जाम 25% डब्ल्यूजी@ 10 ग्राम प्रति पंप छिड़काव करें।
आज का फोटो  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
403
16
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
06 Jun 19, 06:00 AM
क्या अंकुरण अवस्था में दीमक के कारण कपास के पौधे सूख रहे हैं?
संक्रमित पौधों को निकालकर नष्ट कर देना चाहिए। तथा क्लोरपायरीफॉस 20 ईसी @ 20 मिली या फिप्रोनिल 5% एससी @ 5 मिली प्रति 10 लीटर पानी में पौधों के आस-पास दें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
248
21
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
05 Jun 19, 06:00 AM
छोटे कपास के पौधों को ऐश वेविल से बचाएं
यह पत्तियों के किनारों को खाते हैं, पत्तियों में छेद करते हैं। इनके नियंत्रण के लिए क्विनालफॉस 25 ईसी @ 20 मिली प्रति 10 लीटर पानी में छिड़काव करें।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
339
17
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
16 May 19, 10:00 AM
कपास के रोपण से पहले गुलाबी सुंडी के इल्ली का प्रबंधन
यदि कपास के पिछले सीजन की फसल में गुलाबी सुंडी का संक्रमण हुआ है तो वहां इस बार भी संक्रमण का खतरा रहता है। इसलिए, किसानों को इस कीट को लेकर कुछ सावधानी बरतनी चाहिए।...
गुरु ज्ञान  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
462
106
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
18 Jun 18, 12:00 AM
अपने कपास फसल को दीमक से बचाएं
कपास की फसल में दीमक को नियंत्रित करने के लिए, सिंचाई के दौरान बूंद विधि द्वारा क्लोरपीरिफोस 20% ईसी @ 2 लीटर / हेक्टेयर दें। इसे ड्रिप द्वारा भी दिया जा सकता है।
आज का सुझाव  |  AgroStar एग्री-डॉक्टर
226
115
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
23 Nov 17, 01:00 PM
पीकेवी हायब्रिड-2 कपास किस्म को केंद्र की मान्यता
बरसती खेती के लिए किस्म; 2019 सीज़न में उपलब्ध होगा पीकेवी हाइब्रिड -2 (बीजी 2) की बहुप्रतीक्षित संकर कपास की किस्म को अंततः केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित किया गया...
कृषि वार्ता  |  एग्रोवन
79
32