Looking for our company website?  
मटर में एकीकृत कीट एवं रोग प्रबंधन
मटर के प्रमुख कीट माँहू: इस कीट के शिशु एवं वयस्क दोनों पौधों के कोमल भागों से रस चूसकर हानि पहुँचाते हैं। इस कीट के आक्रमण के उपरान्त पत्तियों पर काले-काले धब्बे...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
160
0
तरबूज की फसल का उचित प्रबंधन
तरबूज की फसल के अच्छे और जोरदार विकास और अधिक उत्पादन के लिए फसल का उचित उर्वरक और जल प्रबंधन आवश्यक है। खाद प्रबंधन: मृदा परीक्षणों के अनुसार फसल को रासायनिक उर्वरक...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
351
13
सब्जी फसलों के स्वस्थ पौध तैयार करने की विधि
सब्जी फसलों में गुणवत्ता और स्वस्थ पौध का निर्माण और उत्पादन विकास के लिए उचित रोपण आवश्यक है। जिस जगह आपको शेडनेट साथ ही कोकोपीट, प्लास्टिक ट्रे उपलब्ध न हो उस जगह...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
148
1
आलू की खेती की वैज्ञानिक पद्धति
आलू एक ऐसी फसल है जिससे प्रति इकाई क्षेत्रफल में अन्य फसलों की अपेक्षा अधिक उत्पादन मिलता है तथा प्रति हेक्टर आय भी अधिक मिलती है। चावल, गेहूं, गन्ना के बाद क्षेत्रफल...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
211
16
चना उत्पादन की वैज्ञानिक तकनीक
भारत में चने की खेती मुख्य रूप से मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान तथा बिहार में की जाती है। देश के कुल चना क्षेत्रफल का लगभग 90 प्रतिशत भाग...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
353
0
वैज्ञानिक पद्धति से ईसबगोल की खेती कर, पाएं अधिक उत्पादन
ईसबगोल एक महत्वपूर्ण नगदी फसल है, इसके बीज के ऊपर पाया जाने वाला पतला छिलका ही औषधी उत्पाद है। जो कि भूसी के रूप में उपयोग में लिया जाता है। ईसबगोल में 25-30 प्रतिशत...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
54
0
सुरक्षात्मक खेती में शेड हाउस का महत्व
छाया घर एग्रो जाल या अन्य बुनी हुई सामग्री से बना हुआ ऐसा ढांचा होता है जिसमे खुली जगहों से आवश्यक धूप, नमी व वायु के प्रवेश के द्वार होते है। यह पौधे के विकास के लिये...
सलाहकार लेख  |  https://readandlearn1111.blogspot.com/2017/06/blog-post_16.html
125
0
फ़सलों में सल्फर सूक्ष्म पोषकतत्त्व का महत्व
सल्फर, फ़सलों में उपयोग किए जाने वाले 16 प्रमुख पोषकतत्त्व में से एक है। सल्फर का उपयोग मुख्य रूप से पोषकतत्त्व के अलावा कीटनाशक और कवकनाशी के रूप में किया जाता है। पोषकतत्व...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
369
10
फ़सलों में सल्फर सूक्ष्म पोषकतत्त्व का महत्व
सल्फर, फ़सलों में उपयोग किए जाने वाले 16 प्रमुख पोषकतत्त्व में से एक है। सल्फर का उपयोग मुख्य रूप से पोषकतत्त्व के अलावा कीटनाशक और कवकनाशी के रूप में किया जाता...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
6
0
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
07 Oct 19, 10:00 AM
जीरे की आधुनिक पद्धति से खेती
जीरे का उपयोग मसाले के रूप में किया जाता है। जीरे की खेती अन्य फसलों की अपेक्षा ज्यादा लाभदायक है। लेकिन जीरे की खेती में सही तरीके से मौसम, बीज, खाद तथा सिंचाई की...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
576
78
सरसों की खेती के लिए अच्छी भूमि का करें चयन
हमारे देश में विभिन्न प्रकार की सरसों उगाई जाती है। जैसे रायडा -सरसों, पीली सरसों, भूरी सरसों और तारामीरा आदि प्रमुख होती है। भारत में सरसों फसल की उत्पादकता को प्रभावित...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
115
8
AgroStar Krishi Gyaan
Maharashtra
29 Sep 19, 10:00 AM
धान की फसल में फाल्स स्मट रोग एवं उसका उपचार
धान की फसल में इस रोग का प्रभाव अधिक दिखाई देता हैं यह रोग ओष्टिलेजिनांइडिया वाइरेन्स नामक कवक द्वारा फैलता है। मुख्य रूप से यह मृदा-जनित रोग है। इस रोग को कंड़वा रोग...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
304
45
सोयाबीन की कटाई का ध्यान रखें
बीजों की परिपक्वता से लेकर फसल की कटाई तक की जलवायु परिस्थितियों में परिवर्तन पैदा होने से बीजों के अंकुरण और गुणवत्ता पर प्रभाव पड़ता है। फली में बीज पकने की अवस्था...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
321
12
आधुनिक तरीके से शेवंती फूल की खेती
सभी राज्यों, विशेषकर महाराष्ट्र में - दशहरा, दीवाली, क्रिस्मस और शादी के मौके पर सेवंती ( गुलदाउदी ) के फूलों की भारी मांग है, इसलिए सेवंती की खेती करना फायदेमंद है।
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
571
1
टमाटर की फसल में कलम करके बढ़ाएं उत्पादन
टमाटर की फसल आवश्यक उत्पादन क्षमता और पूंजी को देखते हुए यह एक लाभदायक फसल है। सब्जी उत्पादक हमेशा नई तकनीकों की तलाश में रहते हैं जो उन्हें उत्पादन में वृद्धि के साथ-साथ...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
411
26
रेनवाटर हार्वेस्टिंग करने का तरीका
जल ही जीवन है। अगर यह जीवन है तो बेशक यह अनमोल है और ऐसी अनमोल चीज की कद्र भी जरूरी है। पानी हमें हमेशा मिलता रहे, इसके लिए रेनवॉटर हार्वेस्टिंग जरूरी है। आइए जानें,...
सलाहकार लेख  |  Navbharat Times
115
0
स्ट्रॉबेरी की खेती के लिए रोपाई, उर्वरक और सिंचाई की जानकारी
स्ट्राबेरी की खेती शीतोष्ण क्षेत्रों (न ज्यादा ठंडे न ज्यादा गर्म तापमान वाले क्षेत्र) में सफलतापूर्वक की जा सकती है। लेकिन, मैदानी क्षेत्रों में सिर्फ सर्दियों में...
सलाहकार लेख  |  एग्रो संदेश
156
0
मशरूम की खेती
भारत में मशरूम के उच्च तकनीक द्वारा उत्पादन शुरू हुआ है और इसे वैश्विक बाजार भी उपलब्ध हो गया है। मधुमेह, रक्तचाप, हृदय रोग वाले लोगों के लिए मशरूम एक अच्छा भोजन है।...
सलाहकार लेख  |  कृषिसमर्पण
359
1
खेत और बागवानी फसल में कीट और रोग नियंत्रण के लिए पर्यावरण पूरक जाल फसलें
एक छोटे से क्षेत्र में या खेत की फसल में चारों ओर बोई जाने वाली फसल को जाल फसल के रूप में जाना जाता है और इसे मुख्य फसल के रूप में कीड़े-मकोड़े द्वारा पसंद किया जाता...
सलाहकार लेख  |  एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
200
0
आंवला: इसके औषधीय उपयोग और उर्वरकों का प्रबंधन
आंवला, व्यापक रूप से एक भारतीय आंवले के या नेली रूप में जाना जाता है इसके औषधीय गुणों में वृद्धि हुई है। इसके फलों का उपयोग एनीमिया, घावों, दस्त, दांत दर्द और बुखार...
सलाहकार लेख  |  अपनी खेती
168
0
और देखिए