Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
19 Sep 19, 10:00 AM
गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
धान की फसल में बाली आने की अवस्था में आने वाले प्रमुख कीट
देश के अधिकांश हिस्सों में धान की रोपाई समाप्त हो गई है और कुछ क्षेत्रों में फल एवं फूल अवस्था शुरू होने वाली है। इस अवस्था में अपर्याप्त देखभाल की स्थिति में, किसानों को आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। आइए, इस अवस्था में होने वाले धान के संभावित कीटों को जानें और उनका प्रबंधन करें। धान का तना छेदक : पौधे की वानस्पतिक अवस्था में सुंडी पर्णपच्छद में छेद बनाती है और अंदर जाकर पौधे को क्षति पहुंचाती है। क्षतिग्रस्त क्षेत्र सफेद हो जाता है। बिना खुली पत्ती भूरी सी होकर सूख जाती हैं, जिसे डेड हर्ट (मृत केंद्र) कहते हैं। संक्रमित पौधों में से सामान्य पुष्प गुच्छ के स्थान पर सफेद बालियां निकलती हैं, जिनमें दाने नहीं बनते। संक्रमित शूट को हाथों से आसानी से बाहर निकाला जा सकता है। धान का पत्ती लपेटक : मादा कीट धान की पत्तियों के शिराओं के पास समूह में अंडे देती हैं। इन अण्डों से 6-8 दिन में सुंडियां बहार निकलती हैं। ये सुंडियां पहले मुलायम पत्तियों को खाती हैं तथा बाद में अपने लार द्वारा रेशमी धागा बनाकर पत्ती को किनारों से मोड़ देती हैं और अन्दर ही अन्दर खुरच कर खाती है। इस कीट का प्रकोप अगस्त-सितम्बर माह में अधिक होता है। प्रभावित खेत में धान की पत्तियां सफेद एवं झुलसी हुई दिखायी देती हैं। धान का फुदका : यह 3 प्रकार के हरा फुदका, भूरा फुदका, सफेद पीठ वाला फुदका होते हैं। इनके ऊपरी पंखों के दोनों किनारों पर काले बिन्दु पाये जाते हैं। इस कीट के शिशु एवं प्रौढ़ दोनों ही पत्तियों से रस चूसकर हानि पहुंचाते हैं, जिससे ग्रसित पत्तियां पहले पीली और बाद में कत्थई रंग की होकर नोक से नीचे की तरफ सूखने लगती हैं। बंका कीट : इस कीट की सुंडियां पत्तियों को अपने शरीर के बराबर काटकर खोल बना लेती हैं तथा उसी के अन्दर रहकर दूसरी पत्तियों से चिपककर उसके हरे भाग को खुरचकर खाती हैं। सींग सुंडी : कांटे पर, सुंडी के सिर के हिस्से में संरचनाओं की तरह दो लाल सींग हैं। यह पत्ती के किनारों को खाना शुरू करता है और सिरा के बीच तक पहुंचता है। नीला भृंग : यह कीट पत्तियों के हरे पदार्थ को खाता है। पत्ती के मध्य शिरे के समानांतर सफेद पैच देखे जाते हैं। गन्धी बग : इस कीट के शिशु एवं प्रौढ़ लम्बी टांगो वाले भूरे रंग के विशेष गन्ध वाले होते हैं, जो बालियों की दुग्धावस्था में दानों में बन रहे दूध को चूसकर क्षति पहुंचाते हैं। प्रभावित दानों में चावल नहीं बनते हैं। सैनिक कीटः इस कीट की सुंडियां भूरे रंग की होती हैं, जो दिन के समय कल्लों के मध्य, भूमि की दरारों में छिपी रहती हैं। सुंडियां शाम को कल्लों या दरारों से निकलकर पौधों पर चढ़ जाती हैं तथा बालियों को छोटे–छोटे टुकड़ों में काटकर नीचे गिरा देती हैं। पर्ण मकड़ी : यह कीट पत्तियों से सैप को चूसता है और पत्ती में प्रवेश करने के लिए फंगस (म्यान की सड़न) को आसान और तेज कर देता है। एक प्रत्यक्ष परिणाम के रूप में, सभी अनाज पैनिकल से नहीं जुड़े होते हैं और भूरे हो जाते हैं। केकड़े : यह जल स्तर के पास पौधे को काट देता है। इसके अलावा, खेत की मेड़ में छेद कर देता है जिसके परिणामस्वरूप पानी धान के खेत से बाहर निकल जाता है। चूहे : यह पके हुए धान को काटते हैं और उन्हें अपनी बिल में जमा करते हैं।
रासायनिक प्रबंधन : • पौध की जड़ों को रोपाई से पहले 0.02% क्लोरपायरीफॉस 20 ईसी + 1% यूरिया में 4 घंटे के लिए डुबोएं। • रोपाई के 15 दिन बाद 1.0 किग्रा क्विनालफॉस दानेदार एआई/हैक्टेयर लगाएं। • नई सुंडियों को नियंत्रित करने के लिए क्विनालफॉस के 2 बार या फॉस्फोमिडॉन 0.5 किलोग्राम एआई / हेक्टेयर के साथ 7 दिनों के अंतराल पर छिड़काव करना चाहिए। • तना छेदक सुंडी को क्विनालफॉस के 2 राउंड या फॉस्फोमिडॉन 0.5 किलोग्राम एआई/हेक्टेयर के साथ 7 दिनों के अंतराल पर भुरकाव किया जाना चाहिए। • गंधीबग के संक्रमण के नियंत्रण के लिए मैलाथियान आईएस का भुरकाव करें। • सैनिक कीट के नियंत्रण के लिए नुवान 0.5 किलोग्राम एआई/हेक्टेयर का छिड़काव करें। जैविक प्रबंधन : • धान में तना छेदक के अंडे देने की अवस्था के दौरान साप्ताहिक अंतराल पर अंडे के परजीवी ट्राइकोग्राम जपोनिकम को 50,000 @/हेक्टेयर छोड़ें। • मिरिड बग साइटोरहिनस लिविडिपनिस @50-75 अंडा/वर्ग मीटर में छोड़ें। डॉ. टी.एम. भरपोडा, एंटोमोलॉजी के पूर्व प्रोफेसर, बी ए कालेज ऑफ एग्रीकल्चर, आनंद कृषि विश्वविद्यालय, आनंद- 388 110 (गुजरात भारत) यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
324
36