Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
23 Nov 19, 06:30 PM
जैविक खेतीएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
जैविक खेती में नीम की खल का उपयोग फायदेमंद है
जैविक खेती में, फसलों को प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करके संरक्षित और पोषित किया जाता है। वनस्पति संसाधनों में नीम के पौधे से मिलनेवाले पदार्थों का अधिक मात्रा में जैविक खेती में उपयोग किया जाता है। नीम बीजों से तैयार होनेवाली नीम की खल बड़ी मात्रा में खेत में इस्तेमाल होती है। मई-जून महीने में पके हुए शुद्ध निम्बोली को इकट्ठा करके अच्छी तरह से सुखाया जाता है। इससे नीम की खल कोल्ड प्रेस्ड विधि से तैयार किया जाता है। एक्सपेलर से तेल निकाले बिना तैयार नीम की खल अधिक फायदेमंद होती है। इसमें नाइट्रोजन 3-5%,फॉस्फोरस 1% पोटाश 2% इस प्रमाण में होने के कारण, फसल की जड़ों को धीरे-धीरे उपलब्ध हो जाते हैं। निम्बोली में से विभिन्न घटक जमीन में चले जाने के बाद जड़ों द्वारा सोख लिए जाते हैं। यह विधि मिट्टी में मौजूद कीटनाशकों के साथ-साथ फसलों पर रसचूसक कीटों को भी नियंत्रित करती है। जमीन में रहने वाले या हानिकारक कीट जैसे जड़ों को खरोंचकर खाने वाली इल्लियां, दीमक अच्छी तरह दूर हो जाते हैं। इसके अलावा, सब्जियों की फसलों पर, अनार की फसल की जड़ों के लिए हानिकारक सूत्रकृमि भी अच्छी तरह दूर होते हैं। फसल में नीम की खल का उपयोग करने के बाद 3 से 6 सप्ताह में उसके फायदे दिखने लगते है। नीम की खल में से घटक जमीन में धीरे-धीरे काम करने के कारण 6 महीने तक परिणाम दिखाई देता है।
नीम की खल का खेत में उपयोग : नीम की खल गोबर खाद एवं जैविक खाद के साथ उपयोग के लिए बेहद आसान है। रासायनिक उर्वरकों के बेसल डोस में भी उपयोग किया जाता है। नीम की खल पौधों के जड़ों के क्षेत्र में पहुंच जाये ऐसे विधि द्वारा डालना चाहिए। बागवानी फसल में जड़ों के नजदीक ड्रिपर के पास गड्ढा बनाकर उसमें नीम की खल डालकर मिट्टी से ढक दें। खेत तैयार करते समय भी नीम की खल का उपयोग किया जा सकता है या खड़ी फसलों में नीम की खल बिखेर कर या हाथ से फैलाया जा सकता है। सब्जियों की फसलों में नर्सरी में बेसल डोस डालते समय नीम की खल का उपयोग किया जा सकता है। जैविक किट नाशक - जैविक नीम की खल के साथ उपयोग करना आसान होता है। ट्राइकोडर्मा, स्यूडोमोनस, बेसिलस, बावरिया, मेथेरिजियम, पैक्लियोमाइसेस, एज़ोटोबैक्टर, पीएसबी, केएमबी जैसे उपयोगी सूक्ष्मजीवों का उपयोग नीम के अर्क को रगड़ने या मिश्रण करके किया जा सकता है। मात्रा: - बागवानी फसल : 5 किलोग्राम से 5 किलोग्राम प्रति पेड़ प्रति मौसम सब्जियां : बेसल डोज में 1 से 2 किलो प्रति एकड़ केले : 6 महीने तक प्रति पौधे 1 ग्राम गन्ने बोने के समय यह 5 किलो, 6 महीने के लिए 2 किलोग्राम है संदर्भ - एगोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगती है, तो फोटो के नीचे पीले अंगूठे के आइकन पर क्लिक करें और नीचे दिए गए विकल्पों के माध्यम से अपने कृषक मित्रों के साथ साझा करें!
154
0