Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
19 Feb 18, 10:00 AM
सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
अमरूद के पेड़ की छंटाई और खाद व्यवस्था
अमरूद के पेड़ को नियमित रूप से छाँटने की ज़रूरत नहीं है, बल्कि वृक्ष को उचित मोड़ देने के लिए, युवा वृक्षों की छंटाई करना और बढ़ते नए तनों की कटाई फायदेमंद है। एक ही तने पर वृक्ष को बढ़ने के लिए, 0.5 मीटर की ऊंचाई पर तनों को समय-समय पर छाँटना चाहिए। पेड़ का संतुलन बनाए रखने के लिए 3-4 शाखाओं को एक समान दूरी पर रखना चाहिए।
उर्वरक व्यवस्था - पहले 4 साल तक उर्वरक की उचित खुराक दें ताकि पेड़ तेजी से बढ़ता रहे। • मॉनसून की शुरुआत से पहले प्रति पेड़ 20 से 22 किग्रा गोबर की खाद देना चाहिए। • पौधरोपण के 6 माह बाद 150 ग्राम नाइट्रोजन, 50 से 60 ग्राम फॉस्फोरस, 50 ग्राम पोटाश उर्वरकों की खुराक दी जानी चाहिए। • अगले वर्ष से प्रति वृक्ष को 800 ग्राम नाइट्रोजन, 400 ग्राम फॉस्फोरस, 400 ग्राम पोटाश उर्वरकों की खुराक 3 भागों में बाँटकर दी जानी चाहिए। जल व्यवस्था - अमरूद का पेड़ लंबे समय तक पानी के तनाव को सहन कर सकता है। लेकिन नए वृक्षारोपण के लिए मिट्टी के प्रकार के आधार पर,10 से 15 दिनों के अंतराल पर पानी दिया जाना चाहिए। तने के चारों ओर दो घेरे बना लें और बाहरी घेरे में पानी दें। सर्दियों में 10 से 15 दिनों के अंतराल पर और 20 दिनों में पौधों को पानी दें। जैसे-जैसे पेड़ बड़ा हो, घेरे के आकार को भी बढ़ाएं। एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस, 19 दिसम्बर 18
68
1