Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
25 May 19, 06:00 PM
जैविक खेतीएग्रोवन
अच्छे उत्पादन के लिए जीवामृत की तैयारी
जीवामृत एक किण्वित सूक्ष्मजीव संस्कृति है जो पोषक तत्व प्रदान करता है। साथ ही यह पौधों में फफूंद और बैक्टीरिया से होने वाली बीमारियों को भी रोकता है। जीवामृत कैसे तैयार करें: 1. एक बैरल में 200 लीटर पानी डालें, 10 किलो गाय का ताजा गोबर और 5 से 10 लीटर वृद्ध गाय का गोमूत्र मिलाएं। 2 किलो गुड़, 2 किलो दाल का आटा और मुट्ठी भर खेत की मिट्टी मिलाएं। 2. घोल को अच्छी तरह से फेंट लें और 48 घंटे के लिए छाया में खमीर उठने दें। अब जीवामृत आवेदन के लिए तैयार है। एक एकड़ भूमि के लिए 200 लीटर जीवामृत पर्याप्त होता है।
जीवामृत के लाभ: 1. जीवामृत, पौधों और उनके विकास को बढ़ावा देता है, अच्छी उपज देता है। 2. यह कीट और रोगों के खिलाफ प्रतिरोध क्षमता बढ़ाता है। 3. यह लाभकारी जीव गतिविधि को बढ़ाता है और मिट्टी में जैविक कार्बन को बढ़ाता है। 4. जीवामृत आवेदन: फसलों को एक महीने में दो बार सिंचाई के पानी दें। या 10% पर्ण स्प्रे के रूप इस्तेमाल करें। स्रोत - http://www.fao.org यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
689
0