Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
16 Sep 19, 10:00 AM
सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
आधुनिक तरीके से शेवंती फूल की खेती
सभी राज्यों, विशेषकर महाराष्ट्र में - दशहरा, दीवाली, क्रिस्मस और शादी के मौके पर सेवंती ( गुलदाउदी ) के फूलों की भारी मांग है, इसलिए सेवंती की खेती करना फायदेमंद है।
जमीन : सेवंती ( गुलदाउदी ) की फसल के लिए उपयुक्त भूमि का चयन हमेशा फायदेमंद होता है। 6.5 से 7 के अनुपात वाली भूमि खेती के लिए अच्छी होती है। मध्यम से हल्की, अच्छी तरह से सूखी मिट्टी चुनें जिसमें भरपूर कार्बनिक पदार्थ हों। मौसम: सेवंती कम दिन वाली फसल है। अर्थात्, सेवंती को फूल लगने के लिए कम दिन और कम तापमान की आवश्यकता होती है। शुरुआती वृद्धि के समय अधिक सूर्य प्रकाश और बड़ा दिन होना आवश्यक है। सेवंती फसल के वृद्धि के लिए 20 से 30 डिग्री सेल्सियस और फूलों के लिए 10 से 17 डिग्री सेल्सियस तापमान की आवश्यकता होती है। किस्म: अपने क्षेत्र अनुसार किस्मों के बीजों का चयन किया जाना चाहिए। खाद प्रबंधन: बुवाई से पहले जमीन तैयार करते समय 10 से 12 टन अच्छी सड़ी गोबर की खाद मिट्टी में मिला दीजिए। बुवाई के समय, 100 किलो युरिया 120 किलो डीएपी, 120 किलो पोटाश प्रति एकड़ दिया जाना चाहिए, जबकि बुवाई के बाद एक से डेढ़ महीने में नाइट्रोजन 60 किलोग्राम/एकड़ की दर से दिया जाना चाहिए। खरपतवार नियंत्रण: समय-समय पर निराई-गुड़ाई करके फसल को खरपतवारों से मुक्त रखना चाहिए। इससे भूमि मजबूत होती है और फसल की जोरदार बढ़वार होती है। वृक्षों के विकास को सीमित करने और अधिक उत्पादन के लिए सेवंती पौधे के ऊपर के नए पत्तों के भाग को तोड़ देना चाहिए। इस भाग के तोड़ने का सही समय रोपण के बाद चौथे सप्ताह के बाद है। सेवंती पौधे के ऊपर के भाग को काटने से फूलों के उत्पादन में अधिक वृद्धि होती है। फूल निकालना: सेवंती के फूलों के पूरी तरह खिले हुए फूलों की कटाई करनी चाहिए। संभवतः सूर्योदय से पहले फूलों को कटाई कर देनी जाना चाहिए। यदि फूलों की देर से कटाई की तो, फूलों का रंग फीका पड़ जाता है और वजन कम होता है। किस्म के अनुसार फूलों की कटाई, बुवाई के 3 से 5 महीनों के बाद शुरू करना चाहिए। वह आगे एक महीने रहती है। शुरुआती समय में खिलने वाली किस्मों के चार से छह, जबकि देर से पकने वाली किस्मों में आठ से दस महीनों में तुड़ाई होती है। संदर्भ - अॅग्रोस्टार अॅग्रोनोमी सेन्ट्रर ऑफ एक्सिलेंस यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
573
1