AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
25 Jan 18, 10:00 AM
गुरु ज्ञानएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
चलो, बेहतर तकनीक का उपयोग करते हुए हम लहसुन की खेती करें।
हमारे देश में लहसुन की औसत उपज केवल 9 मीट्रिक टन / हेक्टेयर है। जब आपूर्ति की कमी होती है, तो कीमतें अत्यधिक होती हैं। चीन से बड़े पैमाने पर आयातित लहसुन की वजह से हमारे देश के उत्पादकों को चुनौती का सामना करना पड़ता है। प्याज या अन्य सब्जियों की तुलना में, लहसुन की खेती की लागत अधिक है, क्योंकि बीज महंगे होते हैं। फसल उत्पादन में अधिक समय लगता हैं। खेती और कटाई के लिए श्रम लागत अधिक होती है, और तुलनात्मक रूप से उपज कम होती है। अच्छी खेती व्यवस्था अपनाने से अधिक और बेहतर गुणवत्ता की उपज प्राप्त की जा सकती है। तापमान लहसुन एक ऐसी फसल है जो ठंड के मौसम में अच्छे तरह से उगते है। विकास चरण के दौरान, ठंड और थोड़ा आर्द्र मौसम और कंद परिपक्व होने के बाद कटाई के समय, शुष्क मौसम की आवश्यकता होती है। देश में 90% लहसुन की खेती नवंबर माह में होती है। कंद के विकास के पहले पत्तियों की संख्या ज्यादा होनी चाहिए और वे अच्छी तरह से बढ़े, तो ही अच्छी उपज की गारंटी रहती है। नवंबर, दिसंबर, जनवरी के महीनों में रात में कम तापमान पौधों के विकास के लिए अनुकूल है। फरवरी, मार्च के दौरान रात में तापमान कम होता है; लेकिन दिन का तापमान बढ़ता है। आर्द्रता घट जाती है और कंद बढ़ने लगते हैं।
मिट्टी मिट्टी हवादार और उपजाऊ होनी चाहिए। जैविक उर्वरकों की अच्छी आपूर्ति के कारण मध्यम काली मिट्टी से अच्छी उपज प्राप्त किया जा सकता है। भारी काली मिट्टी या चिपचिपा मिट्टी में, कंद अच्छी तरह से विकसित नहीं होते हैं। जहां पानी की निकास अच्छी न हो, वहां पर बुवाई नहीं करनी चाहिए। खेती: गर्मियों में गहरी जुताई के बाद, 2-3 बार हैरो चलाना चाहिए। घास, घास की गाँठ या पूर्व फसल के अवशेषों को निकालना चाहिए। अंतिम संहारक के समय मिट्टी में 10 से 15 टन एफवायएम / हेक्टेयर मिलाया जाना चाहिए। खेती के लिए, 2*4 या 3*4 मीटर की दूरी पर क्यारियाँ बनानी चाहिए। यदि जमीन सपाट है, तो 1.5 से 2 मीटर की चौड़ाई और 10 से 12 मीटर लंबाई की कुंड का निर्माण किया जा सकता है। लहसून कलियों को गड्ढों में लगाने चाहिए। चयनित कलियों को समतल क्यारी पर 15*10 सेमी दूरी और 2 सेमी गहराई पर लगाया जाना चाहिए। चौड़ाई के समानांतर क्यारी पर, हर 15 सेंटीमीटर दूरी पर दरांती से लाइन बनाकर उसमे 10 सेमी दूरी पर कलियों को खड़ी रखा जाना चाहिए और फिर ऊपर मिट्टी डालना चाहिए। खेती से पहले, दो घंटे तक कार्बेनडेज़िम और कार्बोसल्फान घोल में कलियों को भिगोना चाहिए और उसके बाद खेती की जानी चाहिए। 10 लीटर पानी में, 20 मी.ली. कार्बोसल्फान और 25 ग्राम कार्बेन्डाजिम को मिलाकर घोल तैयार करना चाहिए। उर्वरक और पानी की योजना - फ़सल को प्रति एकड़ 40 किग्रा नाइट्रोजन, 20 किग्रा फॉस्फोरस और 20 किग्रा पोटाश की जरूरत होती है। शुरुआत में, खेती के समय, फॉस्फोरस, पोटाश और सल्फर की पूरी खुराक के साथ यूरिया की आधी खुराक दी जानी चाहिए। नाइट्रोजन की शेष खुराक दो भागों में दी जानी चाहिए । कलियों को सूखी मिट्टी में लगाया जाना चाहिए और तुरंत पानी दिया जाना चाहिए । अंकुरण के बाद 8 से 10 दिन के अंतराल पर, मिट्टी की बनावट के अनुसार, पानी दिया जाना चाहिए । यदि अमोनियम सल्फेट का उपयोग किया जाता है, तो फसल को सल्फर खुराक की आवश्यकता पूरी होती है । रोग नियंत्रण- भूरी ब्लाईट-पत्तों पर भूरे रंग के लंबे घाव दिखाई देते हैं । घावों के आकार में वृद्धि शुरू होता है और विकास रुक जाता है और परिणामस्वरूप कंद का आकार छोटा रहता है । नियंत्रण-१० से १५ दिन के अंतराल पर, मेंकोज़ेब 25-30 ग्राम या कार्बेन्डाज़िम 20 ग्राम को 10 लीटर पानी में मिलाने चाहिए और कीटनाशकों के साथ इसका छिड़काव करना चाहिए । डॉ. शैलेंद्र गाडगे (प्याज़ और लहसुन अनुसंधान निर्देशालय, राजगुरु नगर जिला। पुणे), अग्रोस्टार एग्रोनोमी एक्सलंस सेंटर, 5 दिसंबर 17
160
1