Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
08 Oct 18, 10:00 AM
सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
बेहतर टेक्नोलोजी के माध्यम से सूरजमुखी के उत्पादन में वृद्धि।
1) सूरजमुखी का उत्पादन उस खेत में सबसे अधिक होता है जिसमें मध्यम से भारी मिट्टी होती है, और अच्छी जल निकासी प्रणाली होती है और मिट्टी का pH 6.5 से 8 तक होता है। चिकनी मिट्टी या कीचड़ से बने खेत में सूरजमुखी का उत्पादन बढ़ाना मुश्किल होता है। 2) चूंकि सूरजमुखी की जड़ें पोषक तत्व हासिल करने के लिए जमीन मे 60 सेमी से अधिक गहरी जाती हैं, इसलिए बोवाई के दो अंतराल से पहले भूमि को सूखाना और बोवाई की तैयारी में मिट्टी जोतना महत्वपूर्ण है। मिट्टी की नमी और जैविक सामग्री को बनाए रखना चाहिए, और बुवाई के अंतिम चरण से पहले, अच्छी तरह से मिश्रित आठ से दस टन अच्छी खाद मिट्टी मे डालना जरूरी है। 3) बीज में नाइट्रोजन और फास्फोरस सामग्री को बढ़ाने के लिए, बुवाई से पहले, बीज के प्रत्येक किलोग्राम के साथ 3 ग्राम कार्बेन्डाज़ीम इस्तेमाल करें। बुवाई के समय, बीजों को प्रति 10 किलोग्राम बीज के अनुपात में 250 ग्राम एज़ोटोबैक्टर और पीएसबी के साथ संसाधित किया जाना चाहिए। 4) यदि संशोधित किस्मों की तुलना में संकरीत सूरजमुखी की किस्मे रासायनिक खाद के लिए बेहतर प्रतिक्रिया देती है ऐसा देखा जाता है, तो बुवाई के समय भूमि में प्रति एकड़ 10:26:26 के अनुपात में 50 किलोग्राम यूरिया और 40 किलोग्राम बीज का मिश्रण भूमि में फैलाना चाहिए।
5) शुरुआती बुवाई के बाद 30 से 35 दिनों के बाद यूरिया का दूसरा फैलाव किया जाना चाहिए। 6) मिट्टी के परीक्षण रिपोर्ट के आधार पर, यदि आवश्यक हो, तो बुवाई के समय 3-4 किलोग्राम जिंक सल्फेट और 10 से 12 किलोग्राम मैग्नीशियम सल्फेट के साथ मिट्टी मे डाले। इसके बाद, प्रति एकड़ 10 किलोग्राम सल्फर बढ़ाने से सूरजमुखी के तेल का प्रतिशत 1.5 से 2.5 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। 7) अगर फसल पर 20 वे दिन, 40 वें दिन और 50 वें दिन 19:19:19 के अनुपात में 5 ग्राम/लीटर मिश्रण का छिड़काव किया जाता है तो उत्पादन में उल्लेखनीय वृद्धि देखी जा सकती है। 8) सूरजमुखी की फसल में रोपण की बुवाई में सीमा के नियमों का पालन करें। चूंकि किसान आम तौर पर रोपण के लिए विशिष्ट सीमा का उपयोग करते हैं, इसलिए रोपण के अनियमित बुवाई की संभावना होती है जिसके परिणामस्वरूप अंतिम उत्पाद में कमी आ सकती है। इसे रोकने के लिए, अंकुरण के बाद 15 दिनों के बाद फसल को छिड़काव दिया जाना चाहिए। दो रोपणों के बीच कम से कम 30 सेमी की दूरी रखी जानी चाहिए। 30-35 दिनों के बाद पौधे के आसपास से घास फूस दूर करना चाहिए। 9) कलियों, फूलों के सूप और परागों के लिए प्रचुर मात्रा में पानी प्रदान करना, सूरजमुखी में उत्पादन को बढ़ाता है। एग्रोस्टार एग्रोनोमी सेन्टर एक्सेलेन्स, 4 अक्टूबर 2018
154
3