Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
28 Oct 19, 10:00 AM
सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
वैज्ञानिक पद्धति से ईसबगोल की खेती कर, पाएं अधिक उत्पादन
ईसबगोल एक महत्वपूर्ण नगदी फसल है, इसके बीज के ऊपर पाया जाने वाला पतला छिलका ही औषधी उत्पाद है। जो कि भूसी के रूप में उपयोग में लिया जाता है। ईसबगोल में 25-30 प्रतिशत भूसी, 65 प्रतिशत गोला, 4 प्रतिशत लाली एवं 2 प्रतिशत खाका निकलता है।
उपयुक्त जलवायु : इसकी खेती ऊष्ण जलवायु में आसानी से की जा सकती है। इसकी खेती के लिए सीमांत भूमि जिसका पी एच मान 7-8 के मध्य हो, अच्छी मानी जाती है। इसके बीज के अंकुरण के समय 20-25 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान होना चाहिए। भूमि का चयन: ईसबगोल की खेती के लिए बलुई दोमट मिट्टी जिसमें जीवाश्म की मात्रा अधिक हो, सर्वोत्तम मानी जाती है। खेत की तैयारी: खरीफ की फसल की कटाई के बाद खेत की सफाई करके दो से तीन जुताई कर मिट्टी को भुरभरी बनायें। उन्नत किस्में : ईसबगोल की खेती के लिए किस्मों का चयन अपने क्षेत्र की जलवायु और मिट्टी के अनुसार करें। बीज एवं बुवाई : ईसबगोल बीज बोने का उत्तम समय अक्टूबर के अंतिम सप्ताह से नवम्बर के प्रथम सप्ताह तक होता है। इसकी बुवाई बीजों को छिड़क कर एवं कतारों में की जा सकती है। बीजों को विटावैक्स 3 ग्राम प्रति किलोग्राम के हिसाब से उपचारित करके तथा बीजों को मिट्टी में मिलाकर बुवाई करें। खाद एव उवर्रक : ईसबगोल के अधिक उत्पादन के लिए के गोबर की खाद 15 से 20 टन प्रति हेक्टेयर खेत की जुताई के समय मिलाएं। इसके अलावा नाइट्रोजन 50 किलोग्राम, फास्फोरस 40 किलोग्राम एवं पोटाश 25 किलोग्राम की आवश्यकता होती है। सिंचाई प्रबंधन : शुष्क क्षेत्र मे सिंचाई का अधिक महत्व रहता है, इसलिए पहली सिंचाई बीज की बुआई के बाद हल्की सिंचाई करें। दूसरी सिंचाई बुआई के एक सप्ताह बाद करें। इसके अलावा शुष्क क्षेत्र में मौसम के हिसाब से दस दिन पर सिंचाई करते रहें। फसल की कटाई : ईसबगोल फसल की कटाई का उत्तम समय बालियों का लाल होना और हाथ से मसलने पर दाना अलग होने का समय उत्तम होता है। इसकी बालियों को हर दो तीन दिन में पकने की स्थिति के अनुसार तुड़ाई कर लेनी चाहिये । स्रोत : एग्रोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
54
0