AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
16 Apr 19, 01:00 PM
कृषि वार्ताकृषि जागरण
असली-नकली सुपर फास्फेट और पोटाश को पहचानें
बाजार में नकली उर्वरकों की मौजूदगी बढ़ चुकी है लेकिन किसान कुछ आसान तरीकों से असली और नकली उर्वरकों की पहचान कर सकते हैं। सुपर फास्फेट सुपर फास्फेट की पहचान है इसके सख्त दाने तथा इसका भूरा काला बादामी रंग। इसके कुछ दानों को गर्म करें यदि ये नहीं फूलें तो समझ लें असली सुपर फास्फेट है। सुपर फास्फेट नाखूनों से आसानी से नहीं टूटता है।
पोटाश पोटाश की पहचान है इसका सफेद नमक तथा लाल मिर्च जैसा मिश्रण। पोटाश के कुछ दानों पर पानी की कुछ बूंदे डालें अगर ये आपस में नहीं चिपकते हैं तो समझें कि असली पोटाश है। एक बात और पोटाश पानी में घुलने पर इसका लाल भाग पानी पर तैरता रहता है। जिंक सल्फेट जिंक सल्फेट के दाने हल्के सफेद, पीले तथा भूरे बारीक कण के आकार के होते है। इसमें प्रमुख रूप से मैग्नीशियम सल्फेट की मिलावट की जाती है। डी.ए.पी. के घोल मे जिंक सल्फेट का घोल मिलाने पर थक्केदार बन जाता है। जिंक सल्फेट के घोल में पतला कास्टिक का घोल मिलायें तो सफेद मटमैला अवशेष बनता है। इसमें गाढ़ा कास्टिक घोल मिलाएं तो अवशेष पूरा घुल जाता है। स्रोत – कृषि जागरण, 10 अप्रैल 2019 यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
78
1