Looking for our company website?  
AgroStar Krishi Gyaan
Pune, Maharashtra
23 Sep 19, 10:00 AM
सलाहकार लेखएग्रोस्टार एग्रोनोमी सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस
सोयाबीन की कटाई का ध्यान रखें
बीजों की परिपक्वता से लेकर फसल की कटाई तक की जलवायु परिस्थितियों में परिवर्तन पैदा होने से बीजों के अंकुरण और गुणवत्ता पर प्रभाव पड़ता है। फली में बीज पकने की अवस्था में नमी की मात्रा कम हो जाती है। इस अवधि के दौरान, लगातार बारिश होना फसल के लिए हानिकारक है। फसल की परिपक्वता के बाद कटाई की आवश्यकता होती है बीज की नमी आमतौर पर 14-16 प्रतिशत के बीच होती है। इस समय बारिश होने से फसल को नुकसान होता है।
फसल की कटाई करते समय, सावधानी बरतें कि यदि खेत में खरपतवार है, तो फसल के साथ कटाई नहीं करना चाहिए। फसल से पहले खेत में संक्रमित पौधों को उखाड़कर नष्ट कर देना चाहिए। फली भरते समय डायथेन-एम -45 फफूंदनाशक 25-35 ग्राम प्रति पंप का छिड़काव भी करें। यह बीजों के कवक रोगों को नियंत्रित करके अंकुरण में सुधार करता है। फसल की कटाई एक दरांती (हसिया) की मदद से की जानी चाहिए। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि कटाई के समय पौधे उखड़ न आएं। अन्यथा मिट्टी और पत्थर बीज के साथ मिश्रित हो सकते हैं। कटी हुई फसल को तुरंत इक्कठा नहीं करना चाहिए और कटी हुई फसल को खेत में धूप में सुखा देना चाहिए जिससे वे बीज की गुणवत्ता और अंकुरण पर प्रभाव न डालें। यदि सोयाबीन एक बड़े क्षेत्र में बोया जाता है, तो समय और धन की बचत के लिए कंबाइन हार्वेस्टर से फसल की कटाई कर लेना सर्वोत्तम है। फसल की कटाई जमीन से 8 से 10 सेंटीमीटर ऊपर से करना चाहिए। ध्यान रखा जाना चाहिए कि उपकरण मध्यम गति से चलना चाहिए। इस तरह, सोयाबीन की फसल की उचित देखभाल की जानी चाहिए। स्रोत - एगोस्टार एग्रोनॉमी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस यदि आपको यह जानकारी उपयोगी लगे, तो फोटो के नीचे दिए पीले अंगूठे के निशान पर क्लिक करें और नीचे दिए विकल्पों के माध्यम से अपने सभी किसान मित्रों के साथ साझा करें।
269
9